डाटा हेराफेरी के आ’रोप में वर्ल्ड बैंक ने बै’न की ये प्रसिद्ध रिपोर्ट, दो साल में भारत ने लगाई थी 63 स्थान की छलांग

साल 2018 और 2020 की ईज़ ऑफ डूइंग बिजनेस रिपोर्ट के डेटा में अनियमितता के बाद वर्ल्ड बैंक ने रि’पोर्ट के प्रकाशन पर रो’क लगा दी है। यह फैसला पिछली कुछ रिपोर्ट की डेटा के बदलाव में हुई अनियमितताओं के बाद लिया गया है। वर्ल्ड बैंक ने कहा है, “अक्टूबर 2017 और 2019 में प्रकाशित डूइंग बिजनेस रिपोर्ट 2018 और डूइंग बिजनेस रिपोर्ट 2020 के डेटा में बदलाव के संबंध में कई अनियमितताएं सामने आई हैं। ये बदला’व डूइंग बिजनस के तरीके के हिसाब से ठीक नहीं थे।”

भारत ने इन दो वर्षों में अपनी रैंकिंग में काफी सुधार किया है, इसलिए अ’टकलें हैं कि वर्ल्ड बैंक के इस फैसले के बाद भारत की रैंकिंग प्रभावित हो सकती है। भारत ने 2018 में 30 स्थानों की छलांग लगाई थी। इसी तरह साल 2020 में भारत 14 स्थान की छलांग लगाते हुए 63वें स्थान पर पहुंच गया था। 190 देशों की लिस्ट में भारत पिछले साल 77 वें स्थान पर था। मोदी सरकार की इच्छा है कि भारत को टॉप 50 देशों की लिस्ट में जगह मिले, जो अभी बाकी है।

हालांकि, विश्व बैंक ने कहा, “हम एक व्यवस्थित समीक्षा और मूल्यांकन कर रहे हैं। सबसे अधिक प्रभावित देश अज़रबैजान, चीन, सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात प्रतीत होते हैं।” वर्ल्ड बैंक ने कहा है, “हम उन देशों के डेटा को पूर्वव्यापी रूप से सही करेंगे जो डेटा अनियमितताओं से सबसे अधिक प्रभावित हुए थे।”

190 देशों की लिस्ट में भारत साल 2015 में 142वें स्थान पर था जो 2016 में घ’टकर 131वां, 2017 में 130वां, 2018 में 100वां, 2019 में 77वां पर आ गया। साल 2020 में भारत 63वें स्थान पर आ गया था। विशेषज्ञों के मुताबिक, भारत का डेटा पारदर्शी और वास्तविक प्रदर्शन (परफॉर्मेन्स) पर आधारित है।

वर्ल्ड बैंक ने कहा है कि आंकड़ों में हुए ब’दलाव के लिए अब एक सिस्टमैटिक रिव्यू और एसेसमेंट किया जाएगा और इंस्टीट्यूशनल डाटा रिव्यू प्रोसेस के बाद पिछले 5 इज ऑफ डूइंग बिजनेस रिपोर्ट के आंकड़ों की समीक्षा की जाएगी। वर्ल्ड बैंक के बयान में कहा गया है, “व्यापार संकेतक और कार्यप्रणाली को किसी एक देश को ध्यान में रखते हुए तैयार नहीं किया गया है, बल्कि समग्र व्यापार माहौ’ल को बेहतर बनाने में मदद करने के लिए तैयार किया गया है।”