इसरा’इल और फ़लस्ती’नियों के सं’घर्ष विराम पर इस्लामिक देशों का आया ये बयान

शुक्रवार को दोनों पक्षों के बीच संघर्ष विराम की घोषणा की गई थी. दोनों ने ही सं’घर्ष विराम को इस ‘टकराव में अपनी जीत’ बताया.ख़बरों के अनुसार, सं’घर्ष-विराम के लागू होते ही बड़ी संख्या में फ़लस्ती’नी लोग ग़’ज़ा में सड़कों पर उतरकर जश्न मनाने लगे थे.इस बीच हमा’स ने यह चे’तावनी भी दी कि उसके हाथ अभी ट्रि’गर से ह’टे नहीं हैं; यानी वो इस’राइली हम’ले की स्थिति में जवाब देने को तैयार है.

बदलती राय से कमज़ो’र प’ड़ेगा इसराइल: इमरान ख़ान

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने कहा है कि “फ़लस्ती’नियों के मु’द्दे पर दुनिया की ब’दलती राय ही शक्तिशाली देशों को इस’राइल से अपना समर्थन वापस लेने को मजबूर करेगी.”इमरान ख़ान ने कहा कि “दुनिया भर में फ़लस्ती’नियों के मु’द्दे पर लोगों की सोच ब’दल रही है जो कि एक अच्छा सं’केत है, और वो दिन दूर नहीं जब फ़लस्ती’नियों को उनके अधिकार मिलेंगे.”

दुनिया को बताएंगे कि इसराइल कितना बड़ा आतं’की मुल्क़ है: अर्दोआन

तुर्की के राष्ट्रपति रेचेप तैय्यप अर्दोआन ने कहा है कि “वो दुनिया को दिखाएंगे कि इसराइल कितना ब’ड़ा आतं’की मुल्क़ है.”प्रेस से बात करते हुए अर्दो’आन ने कहा कि “हमारे विदेश मंत्री और उनके समकक्ष, जिनके साथ हम सहयोग से कार्य करते हैं, उन्होंने गुरुवार को हमारे एक सांसद और यूए’नजीए के अध्यक्ष वोल्कन बोज़किर की अध्यक्षता में एक सफ़ल सत्र आयोजित किया.”

”वहाँ उन्होंने बताया कि कैसे इसराइल फ़लस्ती’नियों के हक़ मा’र रहा है, कैसे उसने ग़लत तरीक़े से उनकी ज़मीन पर क’ब्ज़ा ज’माया हुआ है. ये सब हम दुनिया को बतायेंगे. हम रुकेंगे नहीं. हम दुनिया को मानचित्र दिखाकर यह साबित करेंगे कि इसराइल कितना बड़ा आतंकी मुल्क़ है, क्योंकि पूरी दुनिया को इसका पता चलना चाहिए.”

अरब, फ़लस्ती’नी और इसरा’इलियों की अगली पीढ़ी के लिए शां’ति ज़रूरी: यूएई

इसराइल और फ़लस्तीनियों के बीच सं’घर्ष विराम की ख़बर आने के बाद, संयुक्त अरब अमीरात के विदेश मंत्रालय द्वारा संयुक्त राष्ट्र में एक बयान दिया गया.इसमें संयुक्त अरब अमीरात ने कहा है कि “यूएई इसराइल और फ़लस्ती’नियों के बीच बढ़ते त’नाव और हिं’सा को लेकर बहुत चिं’तित था. इसमें जो लोग मा’रे गए, उनके प’रिवारों के साथ हमारी पूरी सं’वेदना है. इस हिंसक सं’घर्ष को रु’कवाने के लिए संयुक्त राष्ट्र ने बार-बार जो शांति की अपील की, उसके लिए हम सं’गठन का शुक्रिया अदा करते हैं.”

”हम मानते हैं कि अंतरराष्ट्रीय द’बाव की वजह से इस हिं’सक सं’घर्ष को रोकने में मदद मिली. बातचीत से ही इस म’सले को ह’ल किया जा सकता है ताकि मध्य-पूर्व में शांति रहे. इसराइल ने सारे अंतरराष्ट्रीय क़ानू’नों को तोड़ते हुए फ़लस्ती’नियों पर हम’ले किये. यह अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकारों के ख़ि’लाफ़ था.”

क़तर ने इसराइल-फ़लस्तीनी संघर्ष-विराम का स्वागत किया

क़तर के विदेश मंत्री शेख मोहम्मद बिन अब्दुल रहमान अल-थानी ने इसराइल और फ़लस्ती’नियों के बीच युद्ध-वि’राम का स्वागत किया है.उन्होंने कहा कि आम लोगों की सुरक्षा के लिए जं’ग पर रो’क ज़रूरी है.फ़लस्ती’नियों के मु’द्दे पर उन्होंने एक कॉर्डिनेशन बैठक की जिसमें संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने भी शिरकत की.

क़तर ने ग़ज़ा में ह’वाई हम’ले करने के लिए इसराइल की क’ड़े शब्दों में आलोचना की.क़तर ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के बारे में भी कहा है कि इस हिं’सक सं’घर्ष के दौरान सं’गठन की नि’ष्क्रियता इस अंत’रराष्ट्रीय संस्था की विश्वसनीयता पर कई सवाल ख’ड़े करती है.

सऊदी अरब फ़लस्ती’नियों के साथ: किंग सलमान

सऊदी के किंग सलमान बिन अब्दुल अज़ीज़ अल-सऊद ने फ़लस्ती’नियों के नेता महमूद अब्बास को यह भरोसा दिलाया है कि सऊदी अरब फ़लस्ती’नी लोगों और उनके सं’घर्ष के साथ ख’ड़ा है.शुक्रवार को किंग सलमान ने अब्बास से फ़ोन पर बात की जिसकी जानकारी सऊदी अरब की सरकारी समाचार एजेंसी एसपीए ने अपनी रिपोर्ट में दी है.

रिपोर्ट के अनुसार, किंग सलमान ने सऊदी अरब के विदेश मंत्री प्रिंस फ़ैसल बिन फ़हरान को निर्देश दिया है कि वो अंतरराष्ट्रीय मंचों पर फ़लस्तीनियों की स्थिति को मज़बूत करने की तमाम कोशिशें करते रहें.

सऊदी प्रेस एजेंसी (एसपीए) ने लिखा है कि “किंग सलमान ने फ़लस्तीनियों को यह विश्वास दिलाने की कोशिश की है कि उनकी सरकार इसरा’इली हम’लों को रोकने के लिए हर संभव कोशिश करेगी. साथ ही वे (किंग सलमान) फ़लस्ती’नी लोगों की सुरक्षा और क्षेत्र में शांति की कामना करते हैं.”