C Voter Survey: बंगाल में 41% की BJP पहली पसंद, CM ममता को लेकर आया ये रुझान

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चु’नाव में अब बेहद कम समय रह गया है। माना जा रहा है कि चुनाव आयोग अप्रैल-मई के मध्य में राज्य में चु’नाव कराने की घोषणा कर सकता है। इस बीच टाइम्स नाउ और सी-वोटर ने बंगाल में लोकप्रिय पार्टियों और नेताओं का सर्वे किया है। इसमें पहली बार भाजपा को तृणमूल कांग्रेस से आगे नि’कलता माना जा रहा है। दरअसल, सर्वे में 41.6 फीसदी लोगों ने भाजपा का समर्थन किया है, जबकि टीएमसी 36.9 फीसदी जनता के समर्थन के साथ दूसरे नंबर पर फिसलती नजर आ रही है।

क्या है सर्वे के पूरे नतीजे?: टाइम्स नाउ और सी-वोटर की तरफ से 24 जनवरी से 4 फरवरी तक किए गए इस सर्वे में सामने आया है कि जहां भाजपा को पश्चिम बंगाल में सबसे ज्यादा लोगों का समर्थन हासिल है, वहीं टीएमसी इस मा’मले में दूसरे नंबर पर है। इन दोनों पार्टियों के अलावा कोई और पार्टी जनता के समर्थन के मा’मले में दहाई प्रतिशत अंकों तक नहीं पहुंच पाई।

चौथा नंबर कांग्रेस का है, जिसे 8.4 फीसदी जनता ने पसंद किया है।सबसे खरा’ब हा’लत लेफ्ट की है, जिसे महज 4.4 फीसदी लोगों ने अपनी पसंद बताया है। गौरतलब है कि लेफ्ट पार्टियों ने टीएमसी के आने से पहले तीन दशकों से भी ज्यादा लंबे समय (1977-2011) तक पश्चिम बंगाल पर रा’ज किया था, हालांकि 2011 के बाद से ही लेफ्ट पार्टियों का बंगाल में वोट प्रतिशत गि’रा है। 2015 के चु’नाव में लेफ्ट को महज 19 सीटों पर ही जीत मिली थी।

भाजपा को सीएम का चेहरा न होने का नु’कसान: दूसरी तरफ भाजपा के तमाम आरो’पों के बावजूद ममता बनर्जी आज भी पश्चिम बंगाल में सबसे पसंदीदा मुख्यमंत्री उम्मीदवार के तौर पर सबसे आगे हैं। लगभग 54.3 फ़ीसदी लोग अब भी ममता बनर्जी को सीएम बनते देखना चाहते हैं।

मुख्यमंत्री के तौर पर उनके काम की सराहना करने वाले 49.7 फीसदी लोग हैं, जबकि 31 प्रतिशन ने उनके काम को खरा’ब बताया है।भाजपा के दिलीप घोष सीएम के पसंदीदा चेहरे के तौर पर दूसरे नंबर पर हैं।

हालांकि, उन्हें सिर्फ 22.6 फीसदी लोगों ने ही पसंद किया है। तीसरे नंबर पर टीएमसी से भाजपा में आए मुकुल रॉय का नाम है, जबकि अब तक राजनीति में नहीं उतरे टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली 4.5 फीसदी लोगों के समर्थन के साथ चौथे सबसे पसंदीदा सीएम कैंडिडेट हैं। गौरतलब है कि भाजपा को कोई बड़ा सीएम का चेहरा नहीं होने का नु’कसान उठाना प’ड़ रहा है।