SC ने कुरान की 26 आयतों को ह’टाने वाली याचिका पर सुनाया ये फैसला, वसीम रिज़वी लगा…

कुरा’न की 26 आयतों को आतं’कवाद को बढ़ावा देने वाला बताने वाली याचिका सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दी है. सुप्रीम कोर्ट ने इस मा’मले पर सुनवाई के दौरान  याचिकाकर्ता वसीम रिजवी पर 50 हज़ार रुपए का जु’र्माना भी लगाया है. यूपी शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिज़वी ने इन आयतों में गै’र मु’स्लिमों के खि’लाफ हिं’सा और उनकी ह’त्या को प्रेरित करने वाली बातें लिखी होने की दलील दी थी. अपने दलील में रिजवी ने यह भी कहा था कि इन आयतों को मदर’सों में इनकी शिक्षा पर रो’क लगाई जाए.

वसीम रिजवी ने कहा था, ”ध’र्म गुरु तो सुन नहीं रहे हैं. इसलिए कोर्ट का दरवाजा ख’टख’टाया है. हमने तो 16 जनवरी को चिट्ठी लिखी थी लेकिन कोई जवाब नहीं आया. जबकि इन 26 आयतों का इस्तेमाल आतं’कवादी कर रहे हैं.

क्या कहते हैं रिजवी?

वसीम रिजवी बताते हैं कि इन 26 आ’यतों से कट्ट’रता को बढावा मिलता है. उन्होंने दा’वा किया था कि ये 26 आ’यतें कु’रान में बाद में जोड़ी गई थीं. रिजवी के इस कदम के बाद उनके परिवार के लोगों ने भी साथ छोड़’ने का एलान कर दिया था.

ज’लाया गया था रिजवी का पोस्टर

रिजवी के इस कदम से देश भर के मु’स्लिम समाज उनपर भ’ड़क उठा था. मु’स्लिम समाज के लोग उनके खि’लाफ सड़कों पर उतर’कर उनके खि’लाफ प्रदर्श’न कर रहे थे. प्रदर्श’नकारियों ने रिजवी का पोस्टर भी ज’लाया था.

बीजेपी ने बताया था गलत

वसीम रिजवी के इस कदम के बाद बीजेपी के नेता सैयद शाहनवाज हुसैन ने कहा उनकी पार्टी दृढ़ता से उन लोगों के खि’लाफ है जो किसी भी धा’र्मिक ग्रंथ का अप’मान करते हैं. शाहनवाज हुसैन ने कहा था कि रिजवी को इस तरह के कृ’त्य में लिप्त होकर देश का माहौ’ल खरा’ब नहीं करना चाहिए.