यूपी: शाहजहांपुर की मशहूर ‘जूता मा’र’ होली से पहले पुलिस की तैयारी, 40 मस्जिदें को…

कोरोना वायरस के सं’कट के बीच देश में होली के त्योहार की तैयारियां शुरू हो गई हैं. उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर की होली काफी च’र्चित है. लेकिन इस बार होली के जश्न के लिए खास तैयारी की जा रही है. यहां प्रशासन ने इलाके में करीब 40 मस्जिदों को प्लास्टिक की शीट से ढक दिया है, ताकि होली के दिन यहां कोई अप्रिय घ’टना ना हो पाए.

दरअसल, यूपी के शाहजहांपुर की होली काफी सु’र्खियों में रहती है. यहां होली का जश्न म’नाते हुए एक जुलूस नि’काला जाता है, जिसमें लाट साहब (अंग्रेजी हुकूमत के अफसर) के पुतले को एक बै’लगाड़ी में बै’ठाकर उसपर जू’ते बरसाए जाते हैं.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, इसी जुलूस को लेकर प्रशा’सन ने खास तैयारी की है. जुलूस के रास्ते में जहां पर म’स्जिद प’ड़ती हैं, उनके आस-पास सुरक्षा बढ़ा दी गई है और हर तरह से नज़र रखी जा रही है.

शाहजहांपुर के एसपी संजय कुमार के मुताबिक, जुलूस के रास्ते में प’ड़ने वाली मस्जिदों को प्लास्टिक की शीट से ढका जा रहा है. ताकि कोई भी व्यक्ति जुलूस के वक्त इनपर रंग ना फेंके, जिससे माहौ’ल बिग’ड़ने की स्थिति बने. एसपी के मुताबिक, कुछ मस्जिदों को ढक दिया गया है जबकि सभी को 28 मार्च से पहले ही ढक दिया जाएगा.

एसपी के मुताबिक, जुलूस के मद्देनज़र रूट पर अलग-अलग हिस्सों में बैरिकेडिंग की गई है जबकि कुछ रास्तों को बं’द कर दिया गया है. रूट में सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं और ड्रो’न कैमरे से भी नज़र रखी जा रही है.

अंग्रेजों की जमाने से मन रही जूता मा’र होली

आपको बता दें कि शाहजहांपुर में 18वीं सदी से ही जूता मा’र हो’ली मनाई जाती है. तब अंग्रेजी हुकूमत के खि’लाफ गु’स्सा प्रक’ट करने के लिए स्थानीय लोगों ने इसकी शुरुआत की थी. जब 1947 में देश को आजादी मिली, तब भी इस ट्रेडिशन को जारी रखा गया. जूता मार होली को दो हिस्सों में मनाया जाता है, जहां बड़े लाट साहब और छोटे लाट साहब का जुलू’स निकाला जाता है.