यूपी में आतं’कियों के पकडे जाने पर अखिलेश यादव का आया रिएक्शन, बोले-‘पुलिस और BJP…’

उत्तर प्रदेश में आतं’कियों की गि’रफ्तारी पर समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव के संदेह करने वाले बयान के बाद राजनीतिक ब’वाल शुरू हो गया है. अखिलेश यादव ने रविवार को मीडिया से बात करते हुए कहा था, ‘मैं यूपी पुलिस विशेषकर भाजपा सरकार पर भरोसा नहीं कर सकता.

‘ हालांकि, उनकी पार्टी ने आरो’प लगाया है कि गलत मायने निकालने के लिए एडिट की हुई वीडियो क्लिप सर्कूलेट की जा रही है, पूर्व मुख्यमंत्री ने यह बात तब कही थी, जब गि’रफ्तारी की बात किसी को नहीं पता थी.

यूपी सरकार ने रविवार को कहा था कि अलकायदा समर्थित अंसार गजवतुल हिंद से जु’ड़े दो आतं’कियों को गि’रफ्तार किया गया है. पुलिस ने बताया था कि आतं’की ‘मानव ब’म’ का इस्तेमाल करते हुए यूपी की कई जगहों पर विस्फो’ट की योजना बना रहे थे.

एडीजी प्रशांत कुमार के ह’वाले से न्यूज एजेंसी पीटीआई ने लिखा था कि मिनहाज अहमद मसीरुद्दीन को गि’रफ्तार किया गया है और उनके घर से भारी मात्रा में विस्फो’टक  सामग्री मिली है. उन्होंने यह भी कहा कि अहमद और मसीरुद्दीन अल-कायदा की उत्तर प्रदेश शाखा के प्रमुख उमर हलमंडी के निर्देश पर काम कर रहे थे.

अगले साल यूपी में होने वाले चु’नाव से पहले सियासी गरमा’हट शुरू हो गई है. भाजपा नेताओं ने अखिलेश यादव का बयान सोशल मीडिया पर शेयर किया है. भाजपा नेता सीटी रवि ने ट्वीट किया, ‘यह देखकर है’रानी हुई कि यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने ऐलान किया कि वह यूपी पुलिस और भाजपा सरकार पर भरोसा नहीं करते.

ये वही लोग हैं, जिन्होंने दावा किया था कि वे भाजपा की वैक्सीन पर भरोसा नहीं करते. तो वे किस पर भरोसा करते हैं? पाकिस्तान सरकार और उसके आतं’कियों पर.’

भाजपा के अमित मालवीय ने लिखा है, ‘अखिलेश यादव को पहले वैक्सीन पर श’क था, अब कह रहे हैं कि आतं’कियों के खि’लाफ यूपी पुलिस की का’र्रवाई पर भरोसा नहीं करते. अगर उन्हें किसी पर भरोसा नहीं है, ना ही सरकार पर और ना ही प्रशासन पर. तो वह क्यों मुख्यमंत्री बनना चाहते हैं? घर पर बैठें.’

अखिलेश के बयान की भाजपा की राज्य इकाई के अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने क’ड़ी आलोचना की. उन्होंने एक ट्वीट में सपा प्रमुख का वीडियो साझा करते हुए पूछा, “आप किस देश के लिए बल्लेबाजी कर रहे हैं, यह सवाल आज सभी के मन में है.’

उप्र भाजपा ने एक अलग ट्वीट में कहा, ‘…इस सफलता पर गर्व करने के बजाय, पूर्व मुख्यमंत्री ने सवाल उठाकर उत्तर प्रदेश पुलिस को अपमा’नित किया है. अखिलेश जी बताएं कि देश की सुरक्षा उनके लिए जरूरी है या तु’ष्टिकरण की राजनीति?’

वहीं, बसपा प्रमुख मायावती ने कहा कि इस मामले में राजनीति नहीं होनी चाहिए. उन्होंने कहा, ‘उत्तर प्रदेश विधानसभा आमचु’नाव के करीब आने पर ही इस प्रकार की कार्रवाई लोगों के मन में सं’देह पैदा करती है. अगर इस कार्रवाई के पीछे सच्चाई है तो पुलिस इतने दिनों तक क्यों बेखबर रही? यह वह सवाल है जो लोग पूछ रहे हैं. अतः सरकार ऐसी कोई कार्रवाई न करे जिससे जनता में बेचैनी और बढ़े.’

साथ ही उन्होंने ट्वीट कर कहा, ”उप्र पुलिस का लखनऊ में आतं’की साजिश का भं’डाफोड़ करने व इस मा’मले में गि’रफ्तार दो लोगों के तार अलकायदा से जुड़े होने का दा’वा अगर सही है तो यह गं’भीर मामला है और उचित कार्रवाई होनी चाहिए वरना इसकी आ’ड़ में कोई राजनीति नहीं होनी चाहिए, जिसकी आशं’का व्यक्त की जा रही है.’