LAC पर जमीन के नीचे ये जा’ल बिछा रहा ची’न, जानें क्या है ये नई सा’जिश

जिस लद्दाख के इलाके में ची’न के साथ त’नाव चल रहा है, उसी ल’द्दाख में ची’न अंडरग्राउंड सा’जिश र’च रहा है. भारत की जा’सूसी करने की नीयत से ची’न अंडरग्राउंड के’बल बिछा रहा है. ची’न की इस चा’ल का अब पर्दा’फा’श हो गया है.

दरअसल, ची’न एलएसी पर नेट’वर्क को मजबूत करने में जुटा है. इसके लिए ची’न एलए’सी पर फाइबर ऑप्टिकल का जा’ल बिछा रहा है. खुफिया एजें’सियों से ये जानकारी मिली है. से’ना को पेंगों’ग लेक के दक्षिणी हिस्से में सा’जिश के स’बूत मिले हैं.

जानकारी के मुताबिक, एलए’सी पर ची’न अपनी से’ना के कम्युनिकेशन के लिए फॉरवर्ड पोजिशन पर अंडरग्राउंड के’बल बिछा रहा है. हाई स्पीड नेटवर्क के लिए पें’गोंग लेक के दक्षिणी इलाके में ची’न ये काम कर रहा है ताकि ची’नी सै’निकों के बीच बातचीत में आसानी हो.

इसके पीछे ची’न का क्या मक’सद है?

दरअसल, भारत से मुंह की खाने के बाद ची’न बौ’ख’लाया हुआ है. एक तरफ ची’न भा’रत को पुरानी दोस्ती का हवा’ला दे रहा है तो दूसरी तरफ एलए’सी पर अपनी सा’जिश को अं’जाम देने में जुटा है. र’क्षा एक्सपर्ट दानवीस सिंह के मुताबिक, फाइवर नेटवर्क कम्युनिकेशन का बहुत ही सुरक्षित माध्यम है. हाई स्पीड डे’टा और रीयल टाइ’म सूचना को भेजने में इससे कम समय लगेगा.

इतना ही नहीं खु’फिया विभाग की मानें तो ची’न लंबी ल’ड़ाई की तैयारी में जुटा है. ची’न की पीए’ल’ए की मं’शा लद्दा’ख में लंबे समय तक रुकने की है. इसी वजह से ची’न अपने कम्यु’निकेशन ने’टवर्क को मजबूत कर रहा है.

भारतीय से’ना को ची’न की इस सा’जिश का पहले ही पता चल गया. ऐसे में से’ना ने भी अपनी तैयारी पूरी कर ली है. बता दें कि ची’न की चा’लबा’जी को देखते हुए से’ना ने पहले ही यहां पर तै’नात सभी सै’निकों को मोबा’इल फोन न इस्तेमाल करने की स’ख्त हि’दा’यत दी. से’ना ने सभी फॉर’वर्ड एरिया के मोबा’इल टा’वर बंद कर दिए.

बातचीत के लिए से’ना पर सिर्फ मिलि’ट्री की सिक्यो’र्ड ला’इन का ही इस्तेमाल करेगी. कुल मिलाकर ये बात साफ है कि ची’न भले ही शांति की बात करे लेकिन उसके दि’माग में कोई न कोई सा’जिश चलती रहती है.