बिहार: ट्रेन में गंजी-कच्छा में घूमने लगे विधायक, लोगों ने किया विरोध तो दी ये सफाई…

लगातार सुर्खियों में रहने वाले भागलपुर के गोपालपुर से जेडीयू विधायक नरेंद्र कुमार नीरज उर्फ गोपाल मंडल की एक फोटो लगातार वायरल हो रही है, जिसमें वे अर्धनग्न अवस्था में दिखाई दे रहे हैं। ट्रेन की इस फोटो के साथ साथ उनपर हंगामा और मारपीट का आरोप भी लग रहा है। हाल के दिनों में अपनी बयानबाजी से चर्चा बटोरने वाले इस गोपाल मंडल पर आरोप है कि वे ट्रेन में अपने पद और गरिमा का उल्लंघन करते हुए सहयात्रियों को अपशब्द भी कह रहे हैं।

गुरुवार की रात पटना-नई दिल्ली तेजस राजधानी एक्सप्रेस के ए-1 कोच में जदयू के भागलपुर जिले के गोपालपुर विधानसभा के विधायक नरेंद्र कुमार नीरज उर्फ गोपाल मंडल को अंडरवियर में टहलने पर यात्री का विरोध झेलना पड़ा। ट्रेन जैसे ही पटना से चली विधायक अपने कपड़े उतारकर अंडरवियर में आ गए।

इसके बाद वह इसी हाल में शौचालय की तरफ जाने लगे। विधायक का बोगी में इस तरह घूमना उन्हें नागवार गुजरा। जब पैसेंजर ने मना किया तो विधायक रौब झाडऩे लगे। देखते ही देखेते दोनों पक्षों में कहासुनी हो गई और झड़प होने लगी।

जानकारी के अनुसार, 02309 तेजस राजधानी एक्सप्रेस पटना (राजेन्द्र नगर) से नई दिल्ली जा रही थी। इसमें नीतीश कुमार की पार्टी जनता दल यू (JDU) के गोपालपुर विधानसभा के विधायक नरेंद्र कुमार नीरज उर्फ गोपाल मंडल सवार थे। उन्होंने ट्रेन में शर्मनाक हरकत की है। चलती ट्रेन में वे सिर्फ गंजी और अंडरवियर में इधर से उधर धूमने लगे।

कोच के अंदर मौजूद अन्य पैसेंजर ने कड़ी इस पर आपत्ति जताई। जिसके बाद विधायक गोपाल मंडल गुस्से में आ गए। उन्होंने कहा— जानते नहीं मैं कौन हूं। एक मिनट में कुछ भी कर सकता हूं। उन्होंने पैसेंजर के साथ गाली-गलौज की। चलती ट्रेन में खूब हंगामा किया। धमकी दी। इस समय ट्रेन दिलदारनगर स्टेशन पास कर चुकी थी।

बता दें कि विधायक अपने कुछ लोगों के साथ तेजस राजधानी एक्सप्रेस के A-1 कोच में मौजूद थे। वे सीट नम्बर 13, 14 और 15 पर सफर कर रहे थे। जहानाबाद के रहने वाले प्रह्लाद पासवान अपने स्वजनों के साथ उसी कोच में सवार थे। उनका सीट नम्बर 22-23 था। विधायक और प्रह्लाद दोनों का टिकट पटना जंक्शन से नई दिल्ली का था।

विवाद बढ़ता देख टीटीई ने दोनों पक्ष को समझ बुझाकर मामला शांत कराया और प्रह्लाद को दूसरी बोगी में बैठा दिया। यह बात प्रहलाद को अच्छी नहीं लगी कि विधायक को समझाने की बजाय उसे ही दूसरी बोगी में बिठा दिया गया। उसने तत्काल इसकी सूचना आरपीएफ कंट्रोल दानापुर (बिहार) को दी।

ट्रेन जैसे ही रात्रि 10 बजे पीडीडीयू जंक्शन पर पहुंची तो जीआरपी एसआइ धीरज कुमार व आरपीएफ एएआइ कन्हैया लाल मौके पर पहुंचे। उन्होंने पूरा मामला समझा लेकिन विधायक को पूरा कपड़ा पहनने को इन्होंने भी नहीं कहा। अंत में किसी तरह दोनों पक्षों को संतुष्ट किया गया।

इसके बाद ट्रेन को 10:22 पर आगे के लिए रवाना किया। जीआरपी इंस्पेक्टर अशोक कुमार दुबे व आरपीएफ इंस्पेक्टर संजीव कुमार ने बताया कि दोनों तरफ से किसी ने कोई तहरीर नहीं दी है।

सहयात्रियों ने कहा कि ट्रेन में महिला पैसेंजर्स भी है। इस तरह विधायक का घूमना उचित नहीं था। यात्रियों ने कहा कि इस बात को समझने के बजाए विधायक उल्टे मारपीट, गाली—गलौज, हल्ला-हंगामा करने लगे। धमकी देना शुरू कर ​​दिया। आरपीएफ की टीम ने पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्टेशन की रेल पुलिस को इस घटना की सूचना दी। ट्रेन वहां पहुंची तो उत्तर प्रदेश की रेल पुलिस भी वहां पहुंची।