मेवालाल के इस्तीफ़े पर तेज प्रताप का तंज़- पहली बॉल में ही मज़बूत विकेट को बैक टू पवेलियन कर दिया

बिहार में नई सरकार बनने के साथ ही राजद के नेतृत्व में विपक्ष अपनी सशक्त भूमिका में लौट आया है। शिक्षा मंत्री मेवालाल को गुरुवार को भ्र’ष्टा’चार से जुड़े एक मामले में इस्तीफा देना पड़ा था। जहां मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने तो इसे अपनी सरकार के जी’रो टॉ’लरेंस का सबूत कहा था, वहीं तेजस्वी यादव से लेकर तेजप्रताप यादव ने इसे विपक्ष के लिए बड़ी सफलता माना।

पूर्व सीएम और राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बेटे तेजप्रताप यादव ने एक ट्वीट में एनडीए पर निशा’ना साधते हुए कहा- “जियो मेरे खिलाड़ी, पहली बॉल में ही मज़बूत विकेट को ‘Back to pavilion’ (बैक टू पवेलियन) कर दिया।”

तेजप्रताप से ठीक पहले पार्टी प्रमुख तेजस्वी यादव ने कहा- “जनादेश के माध्यम से बिहार ने हमें एक आदेश दिया है कि आपकी भ्र’ष्ट नीति, नीयत और नियम के खिला’फ आपको आगाह करते रहें। महज एक इस्तीफे से बात नहीं बनेगी। अभी तो 19 लाख नौकरी,संविदा और समान काम-समान वेतन जैसे अनेकों जन सरोकार के मुद्दों पर मिलेंगे। जय बिहार,जय हिन्द।”

इसके अगले ट्वीट में तेजस्वी ने सीएम नीतीश कुमार पर हम’लों की धा’र ते’ज करते हुए कहा, “मैंने कहा था ना आप थ’क चुके है इसलिए आपकी सोचने-समझने की शक्ति क्षी’ण हो चुकी है। जानबू’झकर भ्र’ष्टा’चारी को मंत्री बनाया। थू-थू के बावजूद पदभार ग्रहण कराया। घंटे बाद इ’स्तीफ़े का नाटक रचाया। असली गु’ना’ह’गार आप हैं। आपने मंत्री क्यों बनाया? आपका दोह’रापन और नौटं’की अब चलने नहीं दी जाएगी?”

सुशील मोदी का पलटवार, IRCTC घो’टाले में चा’र्ज’शीट हैं तेजस्वी, इस्तीफा दें: तेजस्वी के इन ट्वीट्स पर भाजपा नेता और बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने निशा’ना सा’धा था।

उन्होंने कहा था कि तेजस्वी यादव को भी इस्ती’फा देना चाहिए। वे आईआरसीटीसी घो’टाले में चा’र्ज’शीटेड हैं। इसका ट्राय’ल किसी भी दिन शुरू हो सकता है। वहीं जदयू के वरिष्ठ नेता नीरज कुमार ने कहा था कि मेवालाल चौधरी ने इ’स्तीफा देकर नीतीश कुमार के सुशासन, भ्र’ष्टा’चार व अप’राध से कोई सम’झौता नहीं करने के संस्कार का मानक स्थापित किया है। तेजस्वी भी इसका अनुशरण करें, इस्ती’फा दें। कै’दी नंबर 3351 (लालू प्रसाद), 420 के आरो’पी अपने पुत्र को विधायक दल के नेता पद से तुरंत हटाएं।