कोरोना के बाद चीन में फैली ये नई महामारी! तेज़ी से फ़ैल रहा संक्रमण

Covid-19 जै’सी भ’यान’क महा’मा’री का प्रकोप अभी दुनिया भर से ख’त्म नहीं हुआ है। इस बीच ची’न में अब नई म’हा’मा’री का खत’रा पैदा हो गया। यहां Brucellosis नाम की महा’मा’री काफी तेजी से फै’ल रही है। नॉर्थवेस्ट ची’न के गंसू प्रक्षेत्र के Lanzhou शहर में अब तक 3,245 लोगों का टेस्ट Brucellosis पॉजीटिव आय़ा है। बताया जा रहा है कि सोमवार को यहां कुल 21,847 लोगों का टेस्ट किया गया था। इनमें से 4,646 लोग शुरुआती स्क्रिनिंग में पॉजीटिव आए और बाद में इनमें से 3,245 लोगों कन्फर्म रूप से पॉजीटिव पाए गए। ची’न के सरकारी अखबार ‘ग्लोबल टाइम्स’ ने यह बात Gansu Provincial Center for Disease Control and Prevention की एक रिपोर्ट के आधार पर बताई है।

हालांकि अभी तक इस रो’ग से किसी के म’रने की पुष्टि नहीं हुई है। इस म’हा’मा’री फै’लने की वजह के बारे में यह कहा जा रहा है कि पिछले साल नवंबर के महीने में एक बायोलॉजिकल फार्मा फैक्ट्री ने जा’नवरों के इस्तेमाल के लिए ब्रूसेला वैक्सीन बनाने के लिए एक्सपायर हो चुके कीट’नाशकों और सैनेटाइज़रों का इस्तेमाल किया था। बीते जुलाई और अगस्त महीनों में फैक्ट्री, ठीक तरीके से वेस्ट गैस से बैक्टीरिया को न’ष्ट कर पाने में ना’काम रही और इसी वजह से brucellosis म’हामा’री फैली। हालांकि अभी’ इसकी पुष्टि नहीं हुई है।

ची’न के Lanzhou शहर में कई मेडिकल संस्थानों और अस्पतालों को अल’र्ट रहने के लिए कहा गया और साथ ही साथ इन अस्प’ता’लों से कहा गया है कि वो इस बीमा’री के लिए लोगों की मुफ्त में जांच करें।

क्या है Brucellosis?:

Brucellosis के बारे में बताया जा रहा है कि यह बैक्टीरिया से फैलने वाली बीमा\री है। यह मुख्य तौर से पशुओं मसनल – सुअर, भेड़, बकरी और कुत्ता को इनफेक्ट करता है। मनुष्य इस बीमा’री से ग्र’सित तब ही होगा जब वो इस बीमा’री से ग्रसित जानवरों के सीधे संपर्क में आएगा। विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक Brucellosis से ग्र’सित पशुओं के दू’ध से बनाए गए चीज़ के सेवन के बाद ज्यादातर मनुष्यों में यह बीमा’री फैली।

इस बीमा’री के लक्षणों की बात करें तो इसमें – बुखार आना, पसीना आना, बेचैनी होना, सिर दर्द करना और जोड़े में दर्द होना शामिल है। कई केसों में यह भी देखा गया है कि इनमें से कुछ लक्ष’ण इंसान में कई दिनों तक रह जाते हैं। यह भी कहा जा रहा है कि इंसान से इंसान में इस वाय’रस का ट्रांसफर कम ही मु’मकिन है।