बीजेपी नेता के चेले स्वामी नरसिंहानंद का विवा’दित बयान बोले -हिंदू श’स्त्र रखें और पांच बच्चे पैदा करें

परशुराम ट्रस्ट के कार्यक्रम में बतौर अतिथि पहुंचे स्वामी नरसिंहानंद (Swami NarsinghaNand) ने विवा’दा’स्प’द बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि ‘हर हि’न्दू के घर में 4-5 बच्चे होने चाहिए, जिसके हाथ में श’स्त्र नहीं, मैं उसे हि’न्दू नहीं मानता।’’

नरसिंहानंद यहीं नहीं रुके उन्होंने कहा, ‘‘हर हि’न्दू के घर में 4-5 बच्चे होने चाहिए, अब के नौजवानों को मैं बताना चाहता हूं कि जिसके घर में 5-6 से कम बच्चे होंगे अपनी आंखों के सामने अपने वं’श का ना’श होता देखकर म’रेगा।

इतने दिन बु’रे आने वाले हैं। मेरा हिं’दुओं से केवल इतना निवेदन है कि हिं’दू ज्यादा से ज्यादा बच्चे पैदा करें। और किसी भी तरह से हिं’दू श’स्त्र रखे क्योंकि हमारे सारे दे’वी-दे’व’ताओं के हाथ में श’स्त्र है। जिसके हाथ में श’स्त्र नहीं है मैं उसे हिं’दू नहीं मानता। सारे हिं’दुओं को अब तैयारी करनी पड़ेगी।’

अखिल भारतीय संत परिषद के राष्ट्रीय संयोजक और शिव शक्ति धाम डासना के संत यति नरसिंहानंद सरस्वती ने विवा’दित बयान दिया है। उन्होंने कहा कि 2029 में देश का प्रधानमंत्री दूसरे समु’दाय का बनेगा। उनकी बढ़ती जनसंख्या नहीं रो’की जा सकती। इसलिए हर हिं’दू को पांच बच्चे पैदा करने होंगे और हाथ में श’स्त्र रखने होंगे। नौ साल बाद गृ’ह यु’द्ध होगा और जंगल का निय’म समाज में लागू हो जाएगा। जिसके पास ता’कत है, वही ब’चेेगा।

अमीपुर बालैनी पहुंचे नरसिंहानंद सरस्वती ने कहा कि क’श्मी’र में अनु’च्छे’द 3’7’0 ह’टने का फाय’दा या नु’कसान नहीं हुआ है। एक समु’दाय की बढ़ती जन’संख्या देश का सबसे बड़ा मु’द्दा है। कं’ट्रो’ल करना जरूरी है, लेकिन सरकार नि’यंत्रित नहीं कर सकती। ऐसे में जाहिर है कि नौ साल बाद देश के आंत’रिक हाला’त ख’राब होंगे।

बता दें कि यति नरसिंहानंद सरस्वती गा’जि’याबाद के शिव शक्ति धाम डासना मंदिर के महंत हैं. वह पूर्व बीजे’पी सांसद बीएल शर्मा को अपना गुरू मानते हैं. वह हिं’दूवा’दी संग’ठ’नों के तमाम मु’द्दे उठा’ते रहते हैं.