बड़ी ख़बर: लव जि’हाद के कानू’न पर सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज का आया बड़ा बयान

उत्तर प्रदेश सरकार ने हालही में ‘लव जि’हाद’ से जुड़ा कानू’न ‘गै’र कानू’नी धर्मांतरण विधेयक’ को मंजूरी दी है। यूपी सरकार के इस कदम की हर तरफ चर्चा हो रही है। वहीं मध्य प्रदेश और हरियाणा की भाजपा शासित सरकारों ने भी इसका समर्थन किया है। इसी बीच सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश मदन लोकुर ने इस कानू’न का विरो’ध किया है। पूर्व न्यायाधीश ने कहा कि लव जि’हाद कानू’न चुनने की स्‍वतंत्रता के खि’लाफ है।

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज मदन लोकुर ने रविवार को एक लेक्‍चर के दौरान कहा, ‘उत्‍तर प्रदेश में हा’ल ही में पास हुआ वो अध्‍यादेश दुर्भा’ग्‍यपूर्ण है, जिसमें ज’बरन, धो’खे या बहका’वे से ध’र्मांतरण कर शादी कराने की बात कही गई है। ऐसा इसलिए है क्‍योंकि यह अध्‍यादेश चुनने की आजादी, गरिमा और मानवाधिकारों की अनदेखी करता है। मदन लोकुर ने यह भी कहा कि ध’र्मांतरण संबंधी शादियों के खि’लाफ ये कानू’न सुप्रीम कोर्ट द्वारा चुनने की आजादी और व्‍यक्ति की गरिमा की रक्षा के लिए विकसित किए गए न्‍यायशास्‍त्र का उल्‍लं’घन हैं।”

पूर्व न्यायाधीश ने 2018 के हादिया के’स का जिक्र करते हुए कहा कि हादिया के’स में सुप्रीम कोर्ट की ओर से दिए गए आदेश का क्‍या हुआ? लोकुर ने कोर्ट के आदेश का हवाले देते हुए कहा कि उसमें कहा गया था कि एक महिला अपनी मर्जी से ध’र्म परि’वर्तन कर इ’स्‍लाम अपना सकती है और अपनी पसंद के आदमी से शादी कर सकती है।

बता दें यूपी के बाद हरियाणा, कर्नाटक औऱ कई अन्य बीजेपी शासित राज्यों में भी लव जि’हाद पर कानू’न लाने की कवायद चल रही है। इस प्रस्तावित कानू’न के तहत, ध’र्म छि’पाकर किसी को धो’खा देकर शादी करने पर 10 साल की स’ज़ा होगी। माना जा रहा है कि यूपी सरकार आगामी विधानसभा सत्र में लव जिहा’द से जुड़े विधेयक लाकर इसे पारित कराएगी। इस कानू’न के तहत ला’लच, झूठ बोलकर या ज’बरन ध’र्म प’रिवर्तन या शादी के लिए ध’र्म प’रिवर्तन को अपरा’ध माना जाएगा।