सौरव गांगुली होने जा रहे है बीजेपी में शामिल ? ममता के खिला’फ उठाए गए इस कदम से सुगबुगाहट तेज़

पश्चिम बंगाल में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं. बंगाल बीजेपी को मुख्यमंत्री पद के लिए च’र्चित चेहरे की तला’श है. ऐसे में बीसीसीआई अध्यक्ष और टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरभ गांगुली के बीजेपी में शामिल होने की अटकलें ते’ज हो गई हैं.

दरअसल, ममता सरकार ने बंगाल के न्यूटाउन में आईसीएससी बोर्ड वाले 12वीं क्लास तक के स्कूल निर्माण के लिए गांगुली को एक जमीन दी थी. अब हाल ही में उन्होंने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से उनके कार्यालय में मुलाकात की और आवंटित की गई दो एकड़ जमीन लौटा दी.

गांगुली के इस कदम से उनके बीजेपी में जाने की अटकलें लगाई जा रही हैं. हालांकि गांगुली कई मौकों पर कह चुके हैं कि उनकी राजनीति में उन्हें कोई दिलचस्पी नहीं है.

राजनीतिक संबंध

रिपोर्ट्स के मुताबिक, सौरभ गांगुली और ममता बनर्जी के बीच अच्छे राजनीतिक संबंध हैं. माना जाता है कि गांगुली को क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ बंगाल का अध्यक्ष बनाने के पीछे ममता बनर्जी का ही सहयोग रहा था. यही नहीं, गांगुली जब से बीसीसीआई अध्यक्ष बने हैं तब उनके अमित शाह से भी काफी अच्छे संबंध हैं. अक्टूबर 2019 में गांगुली को बीसीसीआई अध्यक्ष बनाने में गृहमंत्री अमित शाह ने अहम भूमिका निभाई थी. तभी से राजनीतिक अ’टकलें लगाई जा रही हैं कि 2021 पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में सौरभ गांगुली बीजेपी की कमान संभाल सकते हैं.

बता दें, बीसीसीआई अध्यक्ष सौरभ गांगुली और सचिव जय शाह दोनों बीसीसीआई के संवि’धान की अवहेलना का मु’क’दमा झे’ल रहे हैं. झारखंड राज्य क्रिकेट संघ (जेएससीए) में खुद को आजीवन सदस्य और क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ झारखंड में खुद को कोषा’ध्यक्ष बताने वाले नरेश मकानी ने क’टघरे में ख’ड़ा किया है.

बता दें कि इससे पहले वाम’मोर्चा के शासनकाल में भी सौरव को स्कूल के निर्माण के लिए साल्टलेक में जमीन आवंटित की गई थी, लेकिन का’नूनी पचड़े के कारण वह जमीन कभी सौरव को मिल ही नहीं पाई। पता चला है कि तृणमूल सरकार की तरफ से वेस्ट बंगाल हाउसिंग इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट कॉरपोरेशन ने उन्हें आइसीएससी बोर्ड वाले 12वीं कक्षा तक के स्कूल के निर्माण के लिए जमीन प्रदान की थी। मगर अब इस मा’मले में भी कानू’नी अड़चनें आ गई हैं।