सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद कैप्टेन अमरिंदर सिंह ने सिद्धू पर दिया ये बड़ा बयान

कांग्रेस की पंजाब इकाई में चल रही कल’ह के बीच मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने मंगलवार को पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की। मुलाकात के बाद कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि पार्टी अध्यक्ष जो भी कहेंगी, उस पर पूरा अमल किया जाएगा। पंजाब में पार्टी चुनाव के लिए पूरी तरह तैयार है। उनके इस बयान के बाद समझा जा रहा है कि पंजाब में पार्टी के भीतर मची रार अब शायद थम जाए।

‘सिद्धू के बारे में पता नहीं, अपने काम को लेकर चर्चा की’

सोनिया के साथ बैठक में क्या नवजोत सिंह सिद्धू को लेकर भी चर्चा हुई, इस सवाल पर कैप्टन अमरिंदर ने कहा, ‘मैं सिद्धू साहब के बारे में कुछ नहीं जानता, मैंने अपनी सरकार के काम और राजनीतिक मुद्दों पर कांग्रेस अध्यक्ष से चर्चा की।’ इस तरह कैप्टन सिद्धू को कोई खास तवज्जो नहीं देते हुए नजरअंदाज करते दिखे।

22 जून को भी दिल्ली आए थे कैप्टन

इससे पहले, 22 जून को कैप्टन दिल्ली में मल्लिकार्जुन खड़गे की अगुआई वाली उस 3 सदस्यीय समिति के सामने पेश हुए थे जिसे कलह खत्म करने की जिम्मेदारी दी गई है। पंजाब में कांग्रेस का अंदरूनी कल’ह अगर जल्द खत्म नहीं हुआ तो सूबे में पार्टी को नुक’सान पहुंच सकता है। अगले साल की शुरुआत में ही पंजाब में विधानसभा चुनाव होने हैं लेकिन पार्टी गुटबा’जी और अंतर्क’लह से त्र’स्त है।

पिछले हफ्ते सिद्धू ने की थी प्रियंका, राहुल से मुलाकात

पिछले हफ्ते ही पूर्व मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने दिल्ली में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी के साथ लंबी बैठक की थी। सूत्रों के मुताबिक, इन बैठकों में कांग्रेस आलाकमान की ओर से सिद्धू को पार्टी या संगठन में सम्मानजनक स्थान की पेशकश के साथ मनाने का प्रयास किया गया।

कैप्टन के खिलाफ सिद्धू ने खोल रखा है मो’र्चा

हाल के दिनों में सिद्धू लगातार इस बात पर जोर दे रहे हैं कि वह मुख्यमंत्री के साथ काम नहीं कर सकते। हाल के कुछ हफ्तों में सिद्धू और पंजाब कांग्रेस के कुछ अन्य नेताओं ने मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के खिलाफ बिजली सहित विभिन्न मुद्दों पर मोर्चा खोल रखा है।

सिद्धू का कहना है कि गुरु ग्रंथ साहिब की बेअद’बी के मामले में अब तक कोई कार्र’वाई नहीं हुई और भ्र’ष्टाचा’र पर अंकुश लगाने के लिए कारगर कदम भी नहीं उठाए गए।