कोरो’ना वैक्सीन बना रही सीरम इंस्टीट्यूट के CEO ने पूछा- क्या भारत सरकार के पास 80 हजार करोड़ रुपये हैं?

पुणे स्थित वैक्सीन बनाने वाली दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया के सीईओ आदर पूनावाला ने कहा है कि सभी भारतीयों को कोरो’ना टीका लगाने के लिए 80 हजार करोड़ रुपये की जरूरत पड़ेगी। उन्होंने शनिवार को ट्वीट किया कि कोरो’ना वैक्सीन की खरीद और उसे भारतीयों को लगवाने में अगले एक साल में 80 हजार करोड़ रुपये खर्च होंगे।

उन्होंने भारत सरकार से पूछा है कि क्या अगले एक साल में उसके पास वैक्सीन के लिए इतनी रकम है। सीरम इंस्टिट्यूट ने कोविड-19 की वैक्सीन को बनाने के लिए ऑक्सफर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्राजेनेका के साथ साझेदारी की है।

आदर पूनावाला ने पीएमओ इंडिया को टैग करते हुए ट्वीट किया, ‘क्विक क्वेश्चन, क्या भारत सरकार के पास अगले एक साल में 80 हजार करोड़ रुपये उपलब्ध होंगे? क्योंकि वैक्सीन खरीदने और हर भारतीयों तक पहुंचाने के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय को इतनी रकम की जरूरत पड़ेगी। हमारे पास सामने अब यह अगली चु’नौ’ती है जिससे हमें निपटना है।’

एक अन्य ट्वीट में पूनावाला ने लिखा कि मैंने इस सवा’ल को इसलिए उठाया है कि हमें एक प्लान और भारत व दुनिया में वै’क्सीन निर्माताओं का मार्गदर्शन करने की जरूरत है। आदर पूनावाला ने कुछ दिन पहले ही कहा था दुनिया में सभी के लिए कोरो’ना वायरस उपलब्ध होने में कम से कम 2024 के अंत तक का वक्त मिलेगा।

पूनावाला ने आगे कहा कि मैं यह सवाल इसलिए पूछ रहा हूं क्योंकि हमें भारत और विदेशों में वैक्सीन बनाने वाली कंपनियों को इस बाबत दिशानिर्देश देने होंगे कि कब और कितनी मात्रा में भारत के लिए वैक्सीन सुरक्षित रखी जाएं. उन्होंने कहा कि वैक्सीन को खरीदने और आम लोगों तक पहुंचाने का खर्च 80 हजार करोड़ रुपये आएगा, जो सरकार को अगले एक साल में खर्च करने पड़ेंगे. ऐसे में यह सवाल उठता है क्या सरकार के पास इतना फंड मौजूद है.