रवि किशन ने बताया मुंबई जाकर नाम से क्यों हटाना पड़ा था शुक्ला? बताई मज़बूरी की वजह

बॉलीवुड में ड्र’ग्स के मु’द्दे को लोकसभा में उठाने वाले बीजेपी सांसद और एक्टर रवि किशन ने मुंबई में अपने सं’घर्ष के दिनों को याद किया है. रोजी रोटी के लिए उन्हें किस दौर से गु’जरना पड़ा इसकी कहानी उन्होंने साझा की है. यूपी में फिल्म सिटी बनाए जाने के प्रस्ताव को मंजूरी दिए जाने के बाद वे  बात कर रहे थे.

बता दें कि जौनपुर में जन्मे रवि किशन ने पिता की पि’टाई के बाद मुंबई का रूख किया था. जब उनसे पूछा गया कि रवि किशन शुक्ला गोरखपुर में अपनी पहचान बताते हैं मुंबई में क्यों छिपाते हैं, क्या ड’र था?

इस पर रवि किशन कहते हैं, ‘सिनेमा में अलग नजर से देखा जाता है. भैया, दूध वाला, ठेला वाला समझा जाता था. भोजपुरी हिंदी के लोगों को नीचा समझा जाता है. एक ल’ड़ाई में बोला गया कि शुक्ला तो ह’टाना पड़ेगा. मेरे पास पैसा नहीं था. अपने पिता का नाम हटाना इससे दु’खद क्या होगा. रोजी रोटी के लिए ऐसा करना पड़ा, क्योंकि एक बड़े परिवार को देखना पड़ रहा था. प्रभु मुझे रास्ता दिखा रहे थे. मुझे लगा कि सिनेमा का एक नाम होगा इसलिए ऐसा करना पड़ा. पैदल, बस से चला. ये एक लंबी कहानी है.’

फिल्म सिटी से हिंदी पट्टी के लोगों को होगा फायदा

रवि किशन ने कहा,’देश तो समझ ही गया होगा कि मैं क्या कहना चाह रहा हूं. मैं जो चाह रहा था कि फिल्म सिटी यहां बने, सम्मान के साथ लोग यहां काम करें. वैसा माहौल बन रहा है यहां. अपनी भाषा-अपनी इंडस्ट्री पर लोग काम करें.’

जया बच्चन ने आप पर तं’ज कसा, बॉलीवुड दो खेमे में बंटा हुआ है, खे’मेबाजी होगी तो बॉलीवुड से ड्र’ग का खा’त्मा कैसे होगा? इस सवाल के जवाब में बीजेपी सांसद ने कहा, ‘खे’मेबाजी नहीं होनी चाहिए, मेरा समर्थन करना चाहिए. सबके बच्चे का भविष्य है. गं’दी मछलियों को पकड़ना पड़ेगा, सिनेमा एक बहुत बड़ा माध्यम है. क्रिकेट-सिनेमा बहुत बड़ा माध्यम है. ये पहले नहीं था लेकिन आठ दस साल में ये बहुत बढ़ा. गाने, फिल्मों में ये बड़ी तेजी से आया.’

उन्होंने कहा, ‘हमारा युवा एक अलग दिशा में जा रहे थे, देश को क’मजोर, खोखला किया जा रहा था. नशे से देश को क’मजोर करने की सा’जिश.बड़े नाम हों या छोटे, जो गल’त किया होगा वो पकड़ा जाएगा. किसी ने गल’त नहीं किया होगा तो क्यों पकड़ा जाएगा.’

जया बनाम रवि किशन का तो मा’मला नहीं है?

रवि किशन ने कहा, ‘ए’नसी’बी, सी’बीआ’ई, पु’लिस प्र’शासन, हमारी सरकार बहुत मजबूत हैं. वो एक-एक को चुन-चुन के निकालेंगे. जो भी ब’र्बाद कर रहा है, ऐसे लोगों को सं’रक्षण दे रहा है, उन्हें एजेंसियां चुन के निकालेंगे. जो नि’र्दोष हैं उनके लिए मैं वादा करता हूं कि उन्हें कुछ नहीं होगा. लॉकअप ऑप्श’न नहीं है, रि’हैब ऑप्शन है.’