कांग्रेस नेताओ पर बिखरे रणदीप सुरजेवाला, कहा बंद करे ट्विटर- ट्विटर खेलना और मोदी सरकार …..

कांग्रेस के नेताओं के बीच ट्विटर पर छिड़ी बहस का पार्टी ने संज्ञान लेते हुए नेताओं को सलाह दी है कि आप संगठन के प्लेटफॉर्म पर अपने विचार रख सकते हैं. रविवार को मोदी सरकार की नई शिक्षा नीति को लेकर प्रेस कॉफ्रेंस करने के लिए आए कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा, “साथी ट्विटर-ट्विटर न खेलें, मिल कर मोदी सरकार के ख़िला’फ़ आवाज़ उठाएं.”

सुरजेवाला ने कहा, “उन सारे मित्रों को जो ट्विटर ट्विटर खेल रहे हैं, मैं उन सारे मित्रों को हाथ जोड़कर विनम्रता से एक राय दूंगा. कांग्रेस पार्टी में सोनिया जी और राहुल जी के नेतृत्व में संगठन के प्लेटफॉर्म पर आप जो चाहें अपने विचार रख सकते हैं. हमारे यहां आंतरिक प्रजातंत्र हैं, हम लोगों को ज’बरन रिटायर नहीं करते हैं.”

कांग्रेस नेता ने कहा, “आज देश कठिन समय से गुजर रहा है, ऐसे में देश कांग्रेस के नेताओं और कार्यकर्ताओं की ओर देखता है. कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं की जिम्मेदारी और अधिक है क्योंकि उन्होंने सरकार के अंदर और संगठन के अंदर बेहतरीन काम किया है जिसके हम आज भी मुरीद है, इसलिए उनकी जिम्मेवारी और अधिक हो जाती है. आज जब देश कोरोना, आर्थिक संक’ट और चीन तीनों संक’ट हमारे सामने है.

तो सोनिया जी, राहुल जी और मनमोहन सिंह जी के साथ मिलकर इन सारे संक’टों का समाना करें और सरकार को सच्चाई का आईना दिखाए. वरिष्ठ नेतृत्व की कांग्रेस में ये जिम्मेदारी है कि वो युवा नेतृत्व को आगे बढ़ाए और उनके लिए रास्ता बनाए. मेरा सबसे अनुरोध है कि संक’ट की घड़ी में मिलकर मोदी सरकार के खिला’फ ल’ड़ें.”

पार्टी को आत्म निरीक्षण की सलाह देने वाले कांग्रेस सांसद राजीव सातव (Rajeev Satav) ने अब उन्हें समझाने वाले नेताओं पर शरो-शायरी के जरिए हम’ला किया है.

इस ट्वीट में उन्होंन अपने “सब्र के इम्तिहान” की बात कही है. कांग्रेस की वर्चुअल बैठक में पार्टी को घर से आत्म निरीक्षण की शुरुआत की बात कहने वाले राजीव सातव ने लिखा, “मत पूछ मेरे सब्र की इन्तेहा कहां तक है, तू सितम कर ले, तेरी ताक़त जहां तक है, व़फा की उम्मीद जिन्हें होगी, उन्हें होगी, हमें तो देखना है, तू ज़ालिम कहां तक है.”

शनिवार को राजीव सातव ने एक बार फिर अपनी ही पार्टी की तरफ इशारों इशारों में हमला किया. उन्होंने लिखा

मत पूछ मेरे सब्र की इन्तेहा कहाँ तक है

तु सितम कर ले, तेरी ताक़त जहाँ तक है,

व़फा की उम्मीद जिन्हें होगी, उन्हें होगी

हमें तो देखना है, तू ज़ालिम कहाँ तक है।

दरअसल पूर्व केंद्रीय मंत्री मनीष तिवारी ने राजीव सातव द्वारा आत्म निरीक्षण की बात कहे जाने पर ट्विटर पर लिखा था, ‘‘भाजपा 2004 से 2014 तक 10 साल सत्ता से बाहर रही. लेकिन उन्होंने उस समय की हालत के लिए कभी अटल बिहारी वाजपेयी या उनकी सरकार को जिम्मेदार नहीं ठहराया.”उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस में दु’र्भाग्य से कुछ दिग्भ्र’मित लोग राजग और भाजपा से ल’ड़ने के बजाय डॉ मनमोहन सिंह नीत सं’प्रग सरकार पर छीं’टाक’शी कर रहे हैं. जब एकता की जरूरत है, वे विभा’जन कर रहे हैं.”