बीजेपी सहयोगी LJP ने PM मोदी को लिखा पत्र, राज्यसभा सीट पर रखी ये मांग

लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के संस्थापक और पूर्व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान (Ram Vilas Paswan) के नि’धन के बाद रिक्त हुई राज्य सभा सीट (Rajya Sabh Seat) को लेकर एनडीए (NDA) में असमंजस की स्थिति है. केंद्र में बीजेपी (BJP) की सहयोगी पार्टी एलजेपी (LJP) इस सीट पर पासवान की पत्नी रीना पासवान (Ram Vilas Paswan Wife) को देने की मांग कर रही है. जेडीयू (JDU) ने बीजेपी के पाले में गेंद डाल दी है. वहीं, इस सीट पर बीजेपी की भी निगाह है.

एलजेपी ने पीएम मोदी को लिखा पत्र

चिराग पासवान (Chirag Paswan) की पार्टी एलजेपी (LJP) ने अपने इरा’दे स्पष्ट कर दिए हैं. एलजेपी के मीडिया प्रभारी कृष्णा सिंह कल्लू ने कहा है कि रामविलास पासवान की पत्नी रीना पासवान (Ram Vilas Paswan Wife Reena Paswan) को राज्य सभा चु’नाव (Rajya Sabh Election)में उम्मीदवार बनाना रामविलास पासवान (Ram Vilas Paswan) के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी. एलजेपी (LJP) की तरफ से इस संबंध में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) को एक पत्र भी भेजा गया है.

आसान नहीं एलजपी की राह

रामविलास पासवान की जगह एनडीए (NDA) की तरफ से कौन राज्य सभा जाएगा, इसे लेकर एनडीए के घट’क दल ज्यादा खुलकर नहीं बोल रहे हैं. एलजेपी ने जिस तरह से बिहार विधान सभा चुनाव (Bihar Assemmbly Election 2020) में अकेले उतरकर जेडीयू (JDU) और बीजेपी (BJP) को नु’कसान पहुंचाया है, उससे एलजेपी (LJP) के हिस्से में इस सीट का जाना आसान नहीं दिख रहा.

एलजेपी से खफा है जेडीयू

नीतीश कुमार (Nitish Kumar) के साथ ही अन्य जेडीयू (JDU) नेता भी इस बाबत बयान दे  रहे हैं. जेडीयू नेता अशोक चौधरी ने कहा है एलजेपी ने न केवल जेडीयू को बल्कि कई सीटों पर बीजेपी को भी नु’कसान पहुंचाया है, ऐसी स्थिति में एलजेपी को समर्थन देने की बात बेमानी है. जेडीयू प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह भी एलजेपी को एनडीए से बाहर नि’कालने की बात कह चुके हैं.

सुशील मोदी की भी दा’वेदारी

दूसरी तरफ कहा यह भी जा रहा है कि बीजेपी की नि’गाह भी इस सीट पर है. बीजेपी की तरफ से सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Moddi) की दा’वेदारी बताई जा रही है. बीजेपी के सभी नेताओं ने इस मा’मले पर चु्प्पी’ साध रखी है. एक बीजेपी नेता ने नाम न छापने की शर्त पर भी सिर्फ इतना ही कहा कि इस मस’ले पर केंद्रीय नेतृत्व को फैसला लेना है.