राकेश टिकैत ने केंद्र को बता दिया कंपनी की सरकार, बोले- गोदाम टू’टेंगे तब जाकर इनमे आएगा…

किसान नेता राकेश टिकैत ने बीजेपी और मोदी सरकार पर तं’ज क’सते हुए कहा कि अगर देश में किसी पार्टी की सरकार होती तो लची’लापन आ जाता, ये तो कंपनी की सरकार है। बड़े-बड़े गो’दाम तो’ड़े जाएंगे तब जाकर लचीलापन टू’टेगा। टिकैत ने कहा कि बीजेपी तो ख’त्म हो गई। सबसे पहले तो इन्हें अपनी पार्टी को बचाना चाहिए। टिकैत ने दा’वा किया कि बीजेपी के लोग भी उनके साथ जुड़े हुए हैं। टिकैत ने कहा कि हमारा आं’दोलन तो तभी मजबूत कहलाएगा जब मजबूत सरकार से ल’ड़ाई ल’ड़ी जाएगी।

बता दें कि दिल्ली की सीमाओं पर चल रहा किसान आं’दोलन कई वजहों से ठं’डा होता दिख रहा है। तेज गर्मी, यूपी में पंचायत चु’नाव और गेहूं की क’टाई की वजह से आं’दोलन पर असर प’ड़ रहा है। इस बीच कोरोना महामा’री भी अपना असर दिखा रही है। लेकिन किसान नेता राकेश टिकैत आं’दोलन में जान फूं’कने में लगे हुए हैं। हापुड़ में कि’सानों ने आं’दोलन को ते’ज करने का नगा’ड़ा बजाया। नए सिरे से किसान आं’दोलन को ख’ड़ा करने के लिए किसान नेता टिकैत यूपी के हा’पुड़ पहुंचे। जहां किसानों ने उनका जो’रदार स्वागत किया।

राकेश टिकैत ने कहा कि सरकार पर असर पड़’ने में अभी और समय लगेगा। टिकैत ने कहा कि सरकार दिल्ली में है ही नहीं सरकार तो बंगाल में चु’नाव ल’ड़ने गई है। गाजीपुर बॉर्डर पर कम होती किसानों की संख्या को लेकर टिकैत ने किसानों से कहा कि वे प्रदर्श’न की जगह पर पहुंचें।

टिकैत ने कहा कि अभी कहां लंबा वक्त हो गया। अभी एक साल भी नहीं हुआ। कोई प्रधान बन जाता है तो वह यह नहीं चाहता कि चु’नाव हों , वो तो ये चाहता है कि मुझे पांच साल और मिल जाएँ। जब जमीन, मकान और प्रोमोशन किसी को छोटा नहीं चाहिए तो आं’दोलन छोटा कैसे काम कर जाएगा, आं’दोलन तो बड़ा होना चाहिए।

टिकैत ने कहा कि हम अपने आं’दोलन के लिए पूरे देश में जाएंगे। जब उनसे पूछा गया कि बंगाल में क्या होगा। तो टिकैत ने कहा कि हमें क्या पता, हम कोई ज्योतिषी थोड़े ही हैं।

टिकैत ने कहा कि गु’जरात के किसान को मुक्त कराना होगा। कहने को तो गु’जरात मॉडल बताया जा रहा है लेकिन गु’जरात का किसान बहुत प’रेशान है। गुजरात में सरकार का राज नहीं पुलिस रा’ज है।