अयोध्या: हिं’दू बहुल इलाके में हाफ़िज़ अज़ीम बने प्रधान, भाईचारे की बनी मिसाल

उत्तर प्रदेश पंचायत चु’नाव के नतीजे आ चुके हैं. इस बार के चु’नाव में समाजवादी पार्टी ने अच्छी कामयाबी हासिल की वहीं भाजपा को नि’राशा मिली है. सपा और भाजपा के अलावा दूसरी पार्टियों ने भी कुछ जगह पर अच्छा प्रदर्श’न किया है वहीं निर्दलीय उम्मीदवारों ने भी ख़ूब जलवा दिखाया है. इन सबके बीच हम बात करने जा रहे हैं फैज़ाबाद के एक गाँव रजनपुर की. इस गाँव में बहुसंख्यक आबादी हिन्दू समुदाय की है लेकिन यहाँ मु’स्लिम प्रधान ने जीत दर्ज की है.

इन नतीजों से एक बार फिर भारत के धार्मिक सद्भाव की गहराइयों का पता चलता है. अयोध्या के रुदौली विधानसभा क्षेत्र के मवई ब्लाक के रजनपुर गांव में हाफ़िज अज़ीम उद्दीन ने हिंदू बहुल क्षेत्र में प्रधान का पद जीतकर यह साबित कर दिया है रजनपुर गांव में हिंदू मुस्लिम एकता कायम है. बहुसंख्यक लोग भी अल्पसंख्याक व्यक्ति को अपना प्रतिनिधि चुन सकते हैं.

उल्लेखनीय है कि मवई ब्लॉक के रजनपुर गांव के हिं’दू बाहुल्य क्षेत्र के लोग एक मुस्लिम व्यक्ति को अपना प्रधान चुना है. हालांकि प्रधान के चु’नाव में कई हिं’दू प्रत्याशी भी प्रधान का चुनाव ल’ड़ रहे थे, लेकिन हिं’दुओं ने अपना प्रतिनिधि एक मु’सलमान व्यक्ति को चुना. अब इस गांव की चर्चा पूरे जनपद में हो रही है कि हिं’दू बाहुल्य से गांव में अ’केला मुसलमान प्रधान बन सकता है.

हाफिज अजीमुद्दीन रजनपुर में अपने परिवार के साथ अकेले रहते हैं. राजनपुर गांव में केवल यही एक परिवार मु’स्लिम परिवार रहता है और हिम्मत कर हाफिज अजीमुद्दीन ने प्रधान का पर्चा दाखिल कर दिया और उन्हें उम्मीद भी नहीं थी कि हिं’दू बाहुल्य से गांव में हिं’दू लोग उन्हें अपना प्र’तिनिधि चुनेंगे. जहां एक तरफ हिं’दू मुस्लिम नफ’रत की चिं’गारी भ’ड़क उठती है. वहीं न’फरती लोगों को रजनपुर गांव के लोगों ने मुंह तो’ड़ जवाब दिया है.