भूखम’री मामले में भारत की दयनीय स्थिति पर भ’ड़के राहुल बोले- देश का गरीब भूखा है क्यूंकि मोदीजी ……..

वैश्विक भूख सूचकांक 2020 (World Hunger Index 2020) जारी हो गया है और इस बार भी भारत की स्थिति में कोई खास सुधार नहीं हुआ है। 107 देशों वाले इस सूचकांक में भारत का 94वां नंबर है जो गंभीर श्रेणी में आता है।

गौर करने वाली बात ये है कि इस सूची में बांग्लादेश, नेपाल और पाकिस्तान जैसे देश भारत से आगे हैं। पाकिस्तान की रैंक 88वीं रैंक है जबकि नेपाल 73वें और बांग्लादेश 75वें स्थान पर है। इंडोनेशिया जैसे देश भी इस सूची में 70वें स्थान पर है। इस रैकिंग को लेकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने सरकार पर हमला बोला है।

राहुल का निशाना

राहुल गांधी ने वैश्विक भूख सूचकांक को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए ट्वीट कर कहा, ‘भारत का ग़रीब भूखा है क्योंकि सरकार सिर्फ़ अपने कुछ ख़ास ‘मित्रों’ की जेबें भरने में लगी है।’

रिपोर्ट्स के मुताबिक इस सूची में भारत से पीछे केवल नाइजीरिया, अफगानिस्तान, लीबिया, चाड़ जैसे देश हैं। सूचकांक जिस डाटा पर आधारित है उसमें निरंतर संशोधन और सुधार होते रहते हैं। भारत का स्कोर इसमें  27.2 है जबकि पाकिस्तान का 24.6, बांग्लादेश का 20.4 और नेपाल का 19.5 स्कोर है।

चार मानदंडों को लेकर बनता है सूचकांक

यह सूचकांक अपने स्कोर को निर्धारित करने के लिए चार मापदंडों का उपयोग करता है। भारत में बच्चे की दु’र्ब’लता(उम्र की तुलना में कम वजन, तीव्र कु’पोषण को दर्शाता है) और बच्चे के वृद्धि पर रोक (उम्र की तुलना में कम लंबाई, पुरानी कु’पोषण को दर्शाता है) में सबसे ख’रा’ब है, जो कुल स्कोर का एक तिहाई बनाते हैं। यद्यपि यह अभी भी सबसे ग’रीब श्रेणी में है, हालांकि, बच्चे की वृद्धि पर रोक में वास्तव में काफी सुधार हुआ है, यह 2000 के 54% से  घटकर अब 35% से कम हो गया है।

ये रिपोर्ट हर साल आती है और जिन देशों का स्कोर नीचे रहता है, उनकी रैंकिंग ऊंची होती है। इसके विपरीत जिनका स्कोर अधिक होता है, जैसे भारत का, उन्हें ख’राब रैंकिंग मिलती है।

ग्लोबल हंगर इंडेक्स 2020 (Global Hunger Index 2020) रिपोर्ट जारी हो गई है. 107 देशों के लिए की गई रैंकिंग में भारत 94 पायदान पर आया है. रिपोर्ट के मुताबिक 27.2 के स्कोर के साथ भारत भूख के मामले में ‘गं’भीर’ स्थिति में है. पिछली बार 117 देशों में भारत की रैंकिंग 102 थी. गौर करने वाली बात है कि भारत की रैंकिंग में सुधार हुआ है, लेकिन कुल देशों की संख्या भी घटी है.