कृषि बिल : किसानों के भारत बंद के समर्थन में उतरे राहुल गांधी, किया ये बड़ा बयान जारी

संसद के मानसून सत्र के दौरान मोदी सरकार ने कृषि क्षेत्र से जुड़े दो अहम विधेयक लोकसभा और राज्यसभा में पेश किए। फिर विप’क्ष के जो’रदार हं’गामे के बीच इसे पास भी कर’वा दिया। जिसके बाद से राजनीतिक पार्टियों और किसानों का विरो’ध जारी है। जिस वजह से आज प्रद’र्शनका’री किसानों ने ‘भारत बं’द’ का ऐलान किया है। जिसके समर्थन में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और सांसद राहुल गांधी आ गए हैं। साथ ही इस बिल को किसानों को गुला’म बना देने वाला बताया है।

राहुल गांधी ने ट्वीट करते हुए लिखा कि पहले मोदी सरकार ने GST के जरिए MEME सेक्टर को बर्बा’द कर दिया। अब वो इस कृषि का’नून से किसानों को गुला’म बना देंगे। उन्होंने इसके साथ हैशटैग लिखा कि I Support Bharat Bandh।

इससे पहले विरो’ध कर रहे किसानों के समर्थन में राहुल गांधी ने लिखा था कि 2014- मोदी जी का चुनावी वादा किसानों को स्वामीनाथन कमिशन वाला MSP। 2015- मोदी सरकार ने कोर्ट में कहा कि उनसे ये न हो पाएगा। 2020- काले किसान कानू’न, मोदी जी की नीयत साफ़, कृषि-विरो’धी नया प्रयास, किसानों को करके जड़ से साफ, पूंजीपति मित्रों का ख़ूब विकास।

क्या कह रहे किसान?

संसद के दोनों सदनों से पारित हुए कृषि विधेयकों के विरो’ध में आज किसान संगठन राष्ट्रव्यापी ह’ड़ताल कर रहे हैं। इससे पहले पंजाब और हरियाणा के किसान सं’गठनों ने तीन दिन की ‘रेल रो’को’ ह’ड़ताल की थी।

सरकार का दा’वा है कि इन बिलों से किसानों को लाभ होगा। इससे किसानों की आय बढ़ेगी और बाजार उनके उत्पादों के लिए खुलेगा। तो वहीं किसान सं’गठनों का कहना है कि इन विधेयकों से कृषि क्षेत्र कार्पोरेट के हाथों में चला जाएगा।

उन्होंने कहा, ‘भ’य और भ्र’म का माहौल पैदा करके बि’चौ’लियों की जागीरदारी को बचाने की को’शिश चल रही है. ये बिल किसानों के हित में है, ये किसानों की सम’स्याओं के समा’धान, किसानों को बिचौ’लियों से मुक्ति देने वाला बिल है. इनके कहने से कोई बिल वापस नहीं होने वाला है.’

राज्य सभा ने बुधवार को उपजीविकाजन्य सुरक्षा, स्वास्थ्य और कार्यदशा संहिता 2020, औद्योगिक संबंध संहिता 2020 और सामाजिक सुर’क्षा संहिता 2020 को मंजूरी दी, जिनके तहत कंपनियों को बंद करने की बा’धाएं ख’त्म होंगी और अधिकतम 300 कर्मचारियों वाली कंपनियों को सरकार की इजाजत के बिना कर्मचारियों को ह’टाने की अनुमति होगी.