बड़ी ख़बर: इजराइल को लेकर पुतिन से बोले तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगन, कहा- इनको सबक सिखाने…

अल-अक्सा मस्जिद में झ’ड़प के बाद इ’जरायल और फिलीस्तीनियों में ट’कराव को लेकर दुनियाभर के मु’स्लिम देशों में हलच’ल देखी जा रही है. मु’स्लिम देशों के सं’गठन ऑर्गेनाइजेशन ऑफ इस्लामिक कॉपरेशन (OIC) भी सक्रिय हो गया है. इसके सदस्य देशों ने इस म’सले पर संयुक्त राष्ट्र महासभा में अंतरराष्ट्रीय बैठक बुलाने के लिए पाकिस्तान, तुर्की और सऊदी अरब के प्रस्तावों को मंजूरी दी है.

हालांकि, तुर्की के राष्ट्रपति रेचेप तैय्यप एर्दगन फिलिस्तीन को लेकर सबसे ज्यादा सक्रिय नजर आ रहे हैं. तुर्की के राष्ट्रपति रेचेप तैय्यप एर्दोगन ने दुनियाभर के मुस्लिम देशों के प्रमुखों से बात करके इ’जरायल के खि’लाफ एक्शन लिए जाने की मुहिम शुरू की है. इस बीच, उन्होंने इजरायल को घेरने के लिए रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को फोन मिलाया था. एर्दोगन ने पुतिन से बातचीत में कहा कि फिलिस्तीनियों पर हमले को लेकर इजरायल को क’ड़ा सबक सिखाये जाने की जरूरत है.

एसोसिएटेड प्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, तुर्की के राष्ट्रपति संचार निदेशालय ने बताया कि यरुशलम में उभरे त’नाव को लेकर दोनों नेताओं ने बुधवार को फोन पर बात की थी. जारी बयान के मुताबिक एर्दोगन ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय को इजरा’यल को एक कड़ा सबक सिखाने की आवश्यकता पर ब’ल दिया.

तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगन ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) पर इस मामले में त्वरित हस्तक्षेप करने और इजरायल को साफ संदेश देने पर जो’र दिया. एर्दोगन ने पुतिन को सुझाव दिया कि फिलिस्तीनियों की सुरक्षा के लिए एक अं’तरराष्ट्रीय सुरक्षा बल तै’नात किए जाने पर विचार किया जाना चाहिए.

तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगन ने इस सिलसिले में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से भी फोन पर चर्चा की. दोनों नेताओं ने बातचीत में इजरायल के रवैये पर विचार विमर्श किया. साथ ही फिलिस्तीन के प्रति एकजुटता प्रदर्शि’त की. दोनों नेताओं ने कहा कि रमजान के पवित्र महीने में यरुशलम की अल-अक्सा मस्जिद में नामाजियों पर अटै’क जघन्य अपराध है. ये अंतरराष्ट्रीय कानू’नों का उल्लं’घन है.

इस बातचीत में एर्दोगन और इमरान खान इस बात पर सहमत हुए कि तुर्की और पाकिस्तान के विदेश मंत्री अंतरराष्ट्रीय स्तर पर फिलीस्तीनियों के म’सले पर मिलकर काम करेंगे. तुर्की के राष्ट्रपति कार्यालय की ओर से जारी बयान के मुताबिक पाकिस्तान और तुर्की फिलिस्तीनियों के मसले को लेकर साथ मिलकर काम करेंगे और अंतरराष्ट्रीय समुदाय को एकजुट करेंगे.