पुण्य प्रसून बाजपेयी का मोदी 2.0 पर नि’शाना, बोले- संसद मार्शल के हवाले, लालकिला डालमिया ग्रुप के हवाले और देश..?

वरिष्ठ पत्रकार पुण्य प्रसून बाजपेयी ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर नि’शाना साधा है। उन्होंने सवाल उठाया है कि देश की संसद मार्शलों के हवाले, लाल किला डालमिया ग्रुप को दिया गया और देश किसके हवाले है। उन्होंने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से किए गए एक ट्वीट में लिखा, ‘संसद… मार्शल के हवाले, लालकिला…. डालमिया ग्रुप के हवाले और देश….।’

बता दें संसद का मानसून सत्र ख’त्म होने के बाद राज्य सभा का एक सीसीटीवी वीडियो सामने आया जिसमें विपक्षी सांसद मार्शलों से जूझते दिखे। संसद में सदस्यों के हं’गामे के बीच सत्र को निर्धारित समय से पहले ही ख’त्म कर दिया गया था जिस पर भी कांग्रेस समेत सभी विपक्षी दलों ने विरो’ध जताया और प्रदर्श’न किया है।

वहीं लाल किला की बात करें तो, साल 2018 में सरकार की ‘एडॉप्ट ए हेरिटेज’ योजना के तहत डालमिया ग्रुप ने पांच साल के कॉन्ट्रैक्ट पर लाल किला को गो’द ले लिया था। लाल किला का कॉन्ट्रैक्ट डालमिया ग्रुप को दिए जाने पर विपक्षी दलों ने केंद्र पर नि’शाना साधा था। कांग्रेस ने सरकार पर सवाल उठाए थे तो वहीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इसे इतिहास का दुखद और काला दिन करार दिया था।

आम आदमी पार्टी ने भी इस पर आप’त्ति ज’ताई थी। पार्टी की तरफ से कहा गया था कि माता-पिता जब बुजुर्ग हो जाते हैं और उनकी देख-रेख नहीं हो पाती तो परिवार वाले उन्हें वृद्धाश्रम छो’ड़ देते हैं। ऐतिहासिक लाल किले को डालमिया ग्रुप को गोद देकर केंद्र सरकार ने कुछ ऐसा ही काम किया है।

बहरहाल, पुण्य प्रसून बाजपेयी के ट्वीट पर ट्विटर यूजर्स की भी प्रतिक्रिया देखने को मिल रही है। मोहम्मद अबूजर नाम के एक यूजर ने लिखा, ‘देश अंबानी अडानी के हवाले।’ अवधेश कुमार पांडे नाम के यूजर लिखते हैं, ‘देश मजबूत नेतृत्व के हवाले। बाजपेयी जी, चिन्ता मत करिए। देश को केवल ग’द्दारों से बचा लीजिए। अभिनन्दन को पाकिस्तान ने कितना जल्दी लौटाया था, याद है आपको? PM मोदी जी हैं।’

राम कृपाल नाम के एक यूजर ने लिखा, ‘मोदी जी ने कहा था- “सौगंध मुझे इस मिट्टी की, मैं देश नहीं मिटने दूंगा”।’ एसआर गिल नाम के एक यूजर ने लिखा, ‘देश बहुत इंतजार के बाद ठीक हाथों में आया है, आप चिं’ता न करें।’