संघर्ष के बीच इजरायली PM नेतन्याहू के त’ल्ख तेवर, कहा- अभी ख’त्म नहीं हुआ है, ये तब तक चलेगा जब तक…

इजरायल और फिलिस्तीन के बीच वि’वाद गहराता जा रहा है. इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू )ने करीब एक हफ्ते से चले आ रहे सं’घर्ष के लिए हमास (Hamas) को जिम्मेदार ठहराया है. उनका आरो’प है कि हमास ने इजरायल पर रॉकेट दा’गकर सं’घर्ष की शुरूआत की. नेतन्याहू ने शनिवार को कहा कि जब तक जरूरी होगा गाजा में ह’मले जारी रहेंगे और नागरिक को हताहत होने से बचने के लिए इजरायल पूरी कोशिश करेगा.

समाचार एजेंसी रायटर्स के मुताबिक, नेतन्याहू ने एक टीवी स्पीच में कहा, “इस टकराव के लिए जो पक्ष जिम्मेदार है, वो हम नहीं हैं बल्कि हम पर हम’ला करने वाले हैं.” उन्होंने कहा, “अभी हम ऑपरेशन के बीच हैं, यह ख’त्म नहीं हुआ है और जब तक जरूरी होगा यह ऑपरेशन चलता रहेगा.”

इजरायल के प्रधानमंत्री ने कहा, “हम हमास के विपरी’त, लोगों को नु’कसान पहुंचने से बचाने के लिए जितना संभव हो कर रहे हैं. हमास जानबू’झकर आम लोगों के पीछे छि’पकर उनको नु’कसान पहुंचाने का इरादा रखता है. हम आं’तकवादि’यों को नि’शाना बना रहे हैं.”

इजरायल और हमास के बीच चल रही जंग सातवें दिन भी जारी रही. इजरायल ने रविवार त’ड़के गाजा में हमास के प्रमुख के घर पर ब’मबा’री की तो हमास ने तेल अवीव में रॉकेट दागे. फिलहाल इस सं’घर्ष पर वि’राम लगने के कोई सं’केत नहीं मिल रहे हैं. स्वास्थ्य अधिकारियों ने कहा कि इजरायल की एयर स्ट्राइक में कम से कम चार फिलिस्तीनी नागरिकों की मौ’त हुई है और कई लोग घा’यल हुए हैं.

हालांकि अक्टूबर 2016 में संयुक्त राष्ट्र की सांस्कृतिक शाखा (यूनेस्को बोर्ड) ने वि’वादित प्रस्ताव पारित करके अल अक्सा मस्जिद से यहू’दियों के दा’वे को खारिज कर दिया था।  इस प्रस्ताव में कहा गया था कि अल अक्सा मस्जिद पर यहू’दियों के दा’वे और उनके कोई एतिहासिक प्रमाण नहीं मिलते। लेकिन इस तरह के किसी प्रस्ताव को यहूदी मानने के लिए तैयार नहीं हैं।

दिलचस्प है कि अल अक्सा मस्जिद से य’हूदी, ई’साई और इ’स्लाम के अनुयायी यानी मु’सलमान तीनों ताल्लुक रखते हैं। इसे पवित्र मानते हैं। इस्लाम के अनुयायियों के लिए मक्का, मदीना के साथ यह तीसरा सबसे पवित्र स्थल है।