राज्यसभा में हंगामे पर एक्शन, ये 8 सांसद पूरे सत्र के लिए निलंबित

राज्यसभा में रविवार को कृषि बिल पर च’र्चा के दौरान विपक्षी दलों के सांसदों ने जम’कर हं’गा’मा किया था. राज्यसभा के सभापति एम. वेंकैया नायडू कल की घ’टना से ना’रा’ज दिखे. उन्‍होंने हं’गामा करने वाले आठ सांसदों को ब’चे हुए सत्र के लिए निलं’बित कर दिया है.

सभापति ने सोमवार को सदन की कार्य’वाही के दौरान कहा कि कल का दिन राज्‍यसभा के लिए बहुत ख’राब दिन था. कुछ सदस्‍य सदन के वेल तक आ गए. उपसभापति के साथ धक्‍’कामुक्‍’की की गई. कुछ सांसदों ने पेपर को फें’का. माइक को तो’ड़ दिया. रूल बुक को फें’का गया. सभापति ने कहा कि इस घ’टना से मैं बेह’द दु’खी हूं. उपसभापति को ध’मकी दी गई. उनपर आप’त्तिज’नक टिप्प’णी की गई.

घटना से आ’हत सभापति ने विपक्षी दलों के 8 सांसदों को निलं’बति कर दिया. निलं’बित होने वाले सांसदों में डेरेक ओ ब्रायन, संजय सिंह, रिपुन बोरा, सैयद नजीर हुसैन, केके रागेश, ए करीम, राजीव साटव, डोला सेन हैं.

सभापति ने कहा कि उपसभापति के खिला’फ विप’क्षी सांसदों की तरफ से लाया गया अवि’श्‍वास प्रस्‍ताव नियमों के हिसाब से सही नहीं है. सभापति की कार्र’वाई के बाद भी सदन में ‘हं’गा’मा जारी रहा.

बता दें कि रविवार को कृषि विधेयकों पर चर्चा के दौरान जम’कर हं’गामा हुआ. कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के जवाब से असं’तुष्ट कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के सांसद वेल में पहुंच गए. हालांकि विप’क्ष के हं’गामे के बीच नरेंद्र सिंह तोमर जवाब देते रहे.

वहीं राज्यसभा में किसान बिल का वि’रोध कर रहे विपक्षी सांसद ने बिल छी’नने की कोशिश की, जिससे उपसभापति का माइक उ’खड़ गया. हालांकि पास में ही खड़े मार्शल ने उन्हें रो’क दिया. इस दौरान विप’क्षी दलों के सांसद कृषि बिल के खिला’फ वि’रोध-प्र’दर्शन करते हुए उपसभापति की चेयर तक पहुंच गए.

सदन में हं’गामा कर रहे सांसदों ने आसन के सामने लगे माइक को तो’ड़ दिया. तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) सांसद डेरक ओ ब्रायन ने उपसभापति के सामने रूल बुक फा’ड़ दी. इसके बाद राज्यसभा की कार्य’वाही स्थगित कर दी गई.

वहीं राज्यसभा में रविवार को हं’गामे के बाद केंद्रीय मंत्रियों की टीम ने मो’र्चा संभाला और प्रेस कॉन्फ्रेंस की. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने किसी का नाम लिए बिना कहा कि जहां तक वह जानते हैं ऐसा राज्यसभा और लोकसभा के इतिहास में कभी नहीं हुआ. राज्यसभा में होने वाली यह बहुत बड़ी घ’टना है, जो हुआ वह सदन की ग’रिमा के खिला’फ था. केंद्रीय अल्पसंख्यक मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी, प्रकाश जावडेकर, थावरचंद गहलोत, पीयूष गोयल और प्रह्लाद जोशी ने भी विप’क्ष के रवै’ये पर सवा’ल उठाए.