ओवैसी की इस चाल से AIMIM के क’ब्जे में आई गोधरा नगरपालिका, बीजेपी को ह’राया

गुजरात (Gujarat) में हुए निकाय चु’नावों में पहली बार अपनी किसत आजमाने के लिए उ’तरी AIMIM का प्रदर्श’न काफी बेहतरीन रहा। AIMIM ने गोधरा नगरपालिका को भाजपा छी’नकर बड़ी उपलब्धि भी हासिल की।

गोधरा की 44 नगरपालिका सीटों में से AIMIM ने 8 सीटों पर चु’नाव ल’ड़ा था। इनमें से 7 सीटों पर उसे जीत हासिल हुई। लेकिन 17 निर्दलीय नगरसेवकों के समर्थन से गोधरा नगरपालिका में AIMIM ने अपना बॉर्ड बनाकर बीजेपी को सत्ता से बाहर कर दिया। समर्थन देने वाले निर्दलीय 17 नगरसेवकों में 5 हिं’दू नगरसेवक भी शामिल हैं।

निर्दलीय नगर सेवक संजय सोनी को पालिका अध्‍यक्ष और अकरम पटेल को उपाध्यक्ष बनाया गया है। गोधरा नगरपालिका में 44 सदस्य हैं और नगरपालिका की सत्ता हासिल करने के लिए 23 नगरसेवकों की जरूरत है। AIMIM को यहां 24 नगरसेवकों का समर्थन मिला है।

वहीँ मोडासा में पार्टी के 12 उम्मीदवार चु’नाव ल’ड़े और 9 पर जीत हासिल हुई। मोडासा नगरपालिका में AIMIM प्रमुख विपक्षी पार्टी बन गई है। वहीँ भरूच की 8 सीटों में से AIMIM को मात्र एक सीट मिल सकी।

गुजरात में AIMIM के बढ़ते वर्चस्व के बारे में माना जा रहा है कि आने वाले 2022 के विधानसभा चुनाव में AIMIM और बीटीपी मिलकर मु’स्लि‍म-दलित और आदिवासी गठजो’ड़ के जरिये अच्छी खासी सीटें हासिल कर सकते हैं।