बिहार के नतीजों से गदगद जूनियर ओवैसी, AIMIM को लेकर कही ये बात

बिहार विधानसभा चुनाव में पांच सीटें जीतने के बाद सांसद असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी का आत्मविश्वास बढ़ा हुआ है. ओवैसी के भाई अकबरुद्दीन ओवैसी ने कहा कि बिहार में AIMIM की कामयाबी हिंदुस्तान की सि’यासत में नई तारीख लिखेगी और दुनिया देखेगी कि AIMIM सारे हिंदुस्तान में अपना झंडा लहराएगी.

बता दें कि बिहार विधानसभा के नतीजे आने के बाद जहां सभी विधायक पटना पहुंचे हैं और सरकार बनाने की सरगर्मियों में जुटे हैं. वहीं AIMIM ने अपने सभी 5 विधायकों को हैदराबाद बुला लिया है. सूत्रों के मुताबिक ओवैसी ने पार्टी विधायकों के टू’टने के ड’र से ऐसा किया है.

शुक्रवार को अकबरुद्दीन ओवैसी ने बिहार के सभी पांच विधायकों से मुलाकात की. इस दौरान जूनियर ओवैसी ने कहा कि मुस्लिम वोट बांटने के आ’रो’पों की पर’वाह उनकी पार्टी नहीं करती है और वे निश्चित रूप से दूसरे राज्यों में अपनी पार्टी का जनाधार बढ़ाएंगे.

अकबरुद्दीन ओवैसी ने हैदराबाद में एक कार्यक्रम में कहा, “दोस्त और दु’श्मन को पहचानो, अपनों और गै’रों को पहचानो, हाल’त ची’ख कर चि’ल्ला कर कह रहा है कि एक हो जाओ, एक मर’कज एक सिया’सी पर जमा हो जाओ.

उन्होंने कहा, “अपनो को पहचानो…तो’हमत इ’ल्ज़ाम लगते रहे हैं हमको प’रवाह नहीं है. बिहार की कामयाबी हिंदुस्तान की सियासत में नई तारीख लिखेगी और दुनिया देखेगी AIMIM सारे हिंदुस्तान में अपना पर’चम लहराएगी. हम सत्तर बर’स से नजर’अंदा’ज लोगों की नु’मा’इंदगी करेंगे.

राजद-कांग्रेस के लिए खत’रे का संकेत बने ओवैसी

बिहार में मुस्लिम-यादव समीकरण को राजद के पक्ष में माना जाता है। सीमांचल का इलाका पहले भी भाजपा के लिए दुरु’ह रहा है। कारण कि यहां कई विधानसभा क्षेत्रों में मु’स्लिमों की आबादी 30 से 70 फीसद तक है। यादव-मुस्लिम मतदाताओं की संयुक्त ताक’त के आधार पर इस इलाके को राजद का बड़ा वोट बैैंक माना जाता है।

ओवैसी ने यहां से सीटें निकालकर राजद-कांग्रेस के लिए खत’रे का संकेत दे दिया है। पांचों सीटें जिनपर ओवैसी को जीत मिली है, पिछली बार उनमें से ज्यादा महागठबंधन के खाते में आ सकती थीं। पिछले चुनाव में आई भी थीं। कांग्रेस, राजद और जदयू के गठबंधन ने मिलकर सारी सीटें जीत ली थीं। भाजपा का खाता भी नहीं खुल सका था।