ममता बनर्जी या शुभेंदु अधिकारी, कौन जीतेगा नंदीग्राम की ल’ड़ाई, जनता का आया ये जवाब

पश्चिम बंगा’ल में विधानसभा चु’नाव शुरू होने में दो सप्ताह का समय बाकी रह गया है. 27 मार्च को बंगाल में पहले चरण की वो’टिंग होगी. सभी पार्टियों ने अपनी क’मर क’स ली है. राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी खुद नंदीग्राम से चु’नाव ल’ड़ेंगे जहां बीजेपी की ओर से शुभेंदु अधिकारी को टि’कट दिया गया है.

बंगाल में ये सप्ताह सियासी तौर पर ग’रमाया रहा. पीएम नरेंद्र मोदी की रैली हुई और मशहूर अभिनेता मिथुन चक्रवर्ती के बीजेपी में शामिल होने की चर्चा रही. वहीं मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने खुद पर हम’ले का आरो’प लगाया. उनके पैर में चोट लगी. वो अस्पताल में भर्ती हुईं , व्हील चेयर पर बाहर आईं और अब उसी पर प्रचार करेंगी.

राजनीति के जानकारों का मानना है कि इन सब घट’नाक्रम का वोटर्स के फैसले पर असर देखने को मिल सकता है. अब कितना असर देखने को मिलता है ये 2 मई को पता चलेगा जब राज्य की सभी 294 विधानसभा सी’टों के नतीजे सामने आएंगे. इस बीच एबीपी सी-वो’टर ने स्नैप पोल के जरिए लोगों की राय जानने की कोशिश की है. इस दौरान लोगों से कुछ सवा’ल किए गए हैं.

नंदीग्राम की ल’ड़ाई को कौन जीतेगा?

जाहिर है कि पश्चिम बंगाल विधानसभा चु’नाव में सबकी नजरें नंदीग्राम विधानसभा सीट पर है, जहां टीएमसी की तरफ से मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और बीजेपी की तरफ से शुभेंदु अधिकारी उम्मीदवार हैं. इस सीट पर कौन जीत दर्ज करेगा, इसके जवाब में 51.4 फीसदी लोगों ने कहा कि ममता बनर्जी इस सीट पर जीत दर्ज कर सकती है. वहीं 32.7 फीसदी लोगों का मानना है कि शुभेंदु अधिकारी एक बार फिर इस सीट से जीते सकते हैं. जबकि 5.2 फीसदी लोगों ने कहा कि इन दोनों में से कोई नहीं जीतेगा. 10.7 फीसदी लोगों ने कोई राय नही दी.

क्या पीएम मोदी की रैली के बाद बंगाल का मूड बदलेगा?

हां- 40.9 फीसदी

नहीं- 38.1 फीसदी

कह नहीं सकते- 21.1 फीसदी

इस सवाल के जवाब में 40.9 फीसदी लोगों ने माना कि पीएम मोदी की रैली के बाद बंगाल का मूड ब’दल सकता है. वहीं 38.1 फीसदी लोगों ने कहा कि प्रधानमंत्री की रैली के बावजदू बंगाल के लोगों के मूड में ब’दलाव नहीं आएगा. साथ ही 21.1 फीसदी लोगों ने इस सवाल पर अपनी कोई राय नहीं दी.

शुभेंदु अधिकारी के खि’लाफ चु’नाव ल’ड़ने का ममता बनर्जी का फैसला सही है?

स्नैप पोल में 48.7 फीसदी लोगों ने कहा कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने नंदीग्राम सीट से शुभेंदु अधिकारी के खि’लाफ चु’नाव ल’ड़ने का जो फैसला किया है वो सही है. वहीं 35.7 फीसदी लोगों ने कहा कि ये फैसला सही नहीं है. 15.6 फीसदी लोगों ने इस सवाल के जवाब में अपनी कोई राय नहीं दी.

ममता बनर्जी ने 27 विधायकों को टिकट नहीं दिया, इससे टीएमसी को फायदा होगा या नु’कसान?

सर्वे की मानें तो 43.2 फीसदी लोगों ने माना कि इस फै’सले से टीएमसी को फायदा होगा. वहीं 33.2 फीसदी लोगों का मानना है कि 27 विधायकों को टिकट नहीं देने का फैसला टीएमसी को नु’कसान पहुंचा सकता है. जबकि 23.6 फीसदी लोगों ने इस सवाल के जवाब में कोई राय नहीं दी.

ममता बनर्जी ने साल 2016 के मु’काबले कम मु’स्लिम उम्मीदवारों को टिकट दिया, इससे फायदा होगा या नु’कसान?

इस सवाल के जवाब में 37.1 फीसदी लोगों ने कहा कि इस फैसले से टीएमसी को फायदा होगा. वहीं 33.3 फीसदी लोगों ने कहा कि इससे टीएमसी को नु’कसान हो सकता है. जबकि 29.6 फीसदी लोगों ने अस सवाल के जवाब पर कुछ कह नहीं सकते हैं में जवाब दिया.

बंगाल में कांग्रेस लेफ्ट के साथ ल’ड़ रही है वहीं केरल में लेफ्ट के खि’लाफ ल’ड़ रही है, क्या ये कांग्रेस के मापदं’ड को दर्शाता है?

इस सवाल के जवाब में 40.3 फीसदी लोगों ने कहा कि ये कांग्रेस के दोहरे मापदं’ड को दर्शाता है. जबकि 23.5 फीसदी ने कहा कि ये फैसला कांग्रेस के दोहरे मापदं’ड को नहीं दिखाता है. वहीं 36.2 फीसदी लोगों ने इस सवाल पर कोई जवाब नहीं दिया.

सर्वे में 34.2 फीसदी लोगों ने कहा कि इससे टीएमसी की रणनीति को नु’कसान होगा. जबकि 32.3 फीसदी लोगों ने कहा कि इससे टीएमसी की रणनीति को नु’कसान नहीं होगा. वहीं 33.6 फीसदी लोगों ने इस सवाल के जवाब में कोई राय नहीं दी.

अगर बीजेपी मिथुन चक्रवर्ती को मुख्यमंत्री उम्मीदवार घोषित कर दें तो क्या पार्टी को फायदा होगा?

इस सवाल के जवाब में 31.4 फीसदी लोगों ने कहा कि इससे बीजेपी को फायदा होगा. जबकि 49.4 फीसदी लोगों का मानना है कि बीजेपी अगर मिथुन चक्रवर्ती को सीएम उम्मीदवार घोषित करेगी तो कोई फा’यदा नहीं होगा. वहीं 19.2 फीसदी लोगों ने इस पर कोई राय नहीं दी.