कोरोना की दूसरी लहर को लेकर सोनिया गांधी का मोदी सरकार पर हम’ला, कहा- ‘तैयारी के लिए एक साल…’

कोविड-19 के चलते देश में बढ़ती ‘दु’र्दशा को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने शनिवार को मोदी सरकार पर ह’मला बोला है. उन्होंने आज कांग्रेस की कार्यसमिति की बैठक ली, जिसमें उन्होंने सरकार की आलोचना करते हुए कहा कि सरकार के पास तैयारी करने के लिए एक साल का वक्त था लेकिन ये दुखद है कि देश आज फिर उसी हा’लत में है. सोनिया ने देश में मेडिकल ऑक्सीजन, हॉस्पिटल बेड और वैक्सीन की कमी को दूर करने की गुहारों के बीच ‘पीएम मोदी की चुप्पी’ को पर हम’ला किया. उन्होंने यह भी कहा कि सरकार को वैक्सीनेशन की उम्र 25 साल करनी चाहिए.

कांग्रेस अध्यक्ष ने कार्यसमिति की ऑनलाइन मीटिंग के बाद कहा कि महामा’री के खि’लाफ ल’ड़ाई ऐसी राष्ट्रीय चुनौ’ती है, जिसे राजनीति के ऊपर रखा जाना चाहिए. ‘हम इस बात को नजरअं’दाज नहीं कर सकते कि को’रोना की दूसरी लहर ने देश को बु’री तरह अपनी चपे’ट में ले लिया है. तैयारी के लिए एक साल होने के बावजूद, दुख है, कि आज हम फिर उसी स्थिति में फं’स गए हैं.’

बेड, वैक्सीन और ऑक्सीजन की कमी पर हुईं हम’लावर

उन्होंने अस्पतालों में अत्यंत जरूरी स्वास्थ्य सुविधाओं की कमी को लेकर कहा कि ‘देशभर में मेडिकल उपकरणों और अस्पतालों में बेड की कमी की खबरें बहुत चिंंताजनक हैं. देशभर से आ रही खबरें बता रही हैं कि कोविड वैक्सीन की कमी चल रही हैं, वहीं कई जगहों पर जीवनरक्षक दवाई रेमडेजिवियर की भी कमी दिख रही है.’

पिछले हफ्ते कांग्रेस-शासित प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों के साथ हुई बैठक के संदर्भ में उन्होंने सरकार पर आरो’प लगाया कि वो इस सं’कट का आकलन और प्रबंधन करने में नाकाम रही है और बचा’व के लिए आगे की तैयारी को लेकर कोई कदम नहीं उठा सकी है.

सोनिया ने कहा कि ‘उन्होंने मुख्यमं’त्रियों से मिलने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा. उनके मुख्यमंत्रियों ने भी पीएम से बात की और संबंधित मंत्रियों को पत्र लिखे. कुछ राज्यों में बस कुछ दिन के लिए वैक्सीन ऑक्सीजन और वेंटिलेटर बचे थे लेकिन सरकार चु’प्पी साधे है. वहीं कुछ दूसरे राज्यों को इसमें वरीयता दी जा रही है.’

वैक्सीनेशन की उम्र सीमा 25 करने की मांग

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, ‘सरकार को टीकाकरण के लिए अपनी प्राथमिकता पर पुनर्विचार करना चाहिए और आयुसीमा को घ’टाकर 25 साल करना चाहिए. अस्थमा, मधुमेह, किडनी और लीवर संबंधी बीमारियों से पीड़ित सभी युवाओं को टीका लगाया जाना चाहिए.’