राजस्थान : विधायक दल की बैठक में उठी पायलटऔर साथी बागियों के खिला’फ आवाज, रखी गई ये स’ख्त मांग

राजस्थान की सियासत किस करवट बैठेगी, ये तय होना अभी बाकी है, लेकिन पक्ष-विपक्ष के नेताओं की बैठकें जारी हैं. इस बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जैसलमेर के सूर्यगढ़ फोर्ट पैलेस पहुंचे, जहां कांग्रेस विधायक दल की बैठक हुई.विधायक दल की बैठक से बड़ा सियासी संदेश निकला है. पायलट कैंप के लिए कांग्रेस के दरवाजे अब लगभग बंद बताए जा रहे हैं. इस बैठक में विधायकों ने सचिन पायलट सहित बा’गियों के खिला’फ कार्र’वाई की मांग की.

इस पर प्रदेश कांग्रेस प्रभारी अविनाश पांडे ने आश्वासन दिया कि बागियों की अब हाईकमान के सामने पैरवी नहीं होगी. इस बैठक के दौरान शांति धारीवाल सचिन पायलट पर जम’कर बर’से.वहीं, सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि जीत हमारी और सत्य की ही होगी. हमारे विधायकों की एकता अटूट है. विधायकों की एकता की वजह से ही बीजेपी को बाड़ेबंदी के लिए मजबूर होना पड़ा.

गहलोत ने कहा कि केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह क्या चाहते हैं, ये किसी से छि’पा नहीं है. बीजेपी के सा’जिश की पो’ल खुल चुकी है. ये बीजेपी के कई विधायक भी जानते हैं. पार्टी में गुटबा’जी च’रम पर है.

विधायकों को गहलोत ने लिखी चिट्ठी

इससे पहले मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने विधायकों को एक चिट्ठी लिखी थी. 3 पेज की चिट्ठी में मुख्यमंत्री ने कोरो’ना के हाला’तों पर सरकार की भूमिका के बारे में विधायकों को विस्तार से जानकारी दी. मुख्यमंत्री ने विधायकों से जनता की आवाज सुनने और लोकतंत्र को बचाने के लिए निर्णय लेने का आग्रह किया.

 

बता दें कि कांग्रेस के कुछ बा’गी और भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के कुछ नेताओं पर सरकार को अस्थिर करने की कोशिश का आ’रोप है. गहलोत ने चिट्ठी में लिखा, चुनी हुई सरकार को अ’स्थि’र करना किसी भी दृष्टिकोण’ से न्यायो’चित नहीं है.’इधर, राजस्थान विधानसभा में बहुजन समाज पार्टी के टिकट पर जीतकर पहुंचने के बाद अब कांग्रेस में विलय कर चुके छह विधायकों को लेकर दायर याचिका पर सुप्रीम कोर्ट सोमवार को सुनवाई करेगा.

जस्टिस अरुण मिश्रा , जस्टिस बी आर गवई, जस्टिस कृष्णा मुरारी की बेंच इस मामले की सुनवाई करेगी. विधायकों ने उनके कांग्रेस में जाने के खिला’फ दायर याचिका को राजस्थान हाईकोर्ट से सुप्रीम कोर्ट में ट्रांसफर करने की मांग की है.

भाजपा विधायक मदन दिलावर ने राजस्थान हाईकोर्ट में इन छह विधायकों के बसपा से कांग्रेस में विलय के खिला’फ याचिका दायर करते हुए इसे असंवै’धानिक बताया है. इस मा’मले को अब इन छह विधायकों ने सुप्रीम कोर्ट ट्रांसफर करने की मांग की है