श’हीद खुर्शीद खान की अं’तिम यात्रा में उमड़ा जनसैलाब, कुछ इस तरह लोगो ने दिया आख़िरी सलाम

जम्मू-कश्मीर के बारामूला में सोमवार को आ’तंकी हम’ले में शहीद हुए रोहतास जिले के बिक्रमगंज के घोसिया काला निवासी खुर्शीद खान का पा’र्थिव शरीर मंगलवार को देर शाम उनके गांव पहुंचा. पा’र्थिव शरीर आने की सूचना मिलते ही जवान के अंतिम दर्शन के लिए सड़कों पर जनसैलाब उमड़ पड़ा. जिले की सीमा पर रोहतास डीएम, एसपी सहित आम लोगों ने हाथ में तिरंगा झंडा लिए शहीद को श्रद्धांजलि अर्पित की और भारत माता की जय के ना’रे लगाए.

लोगों ने कहा कि हमें अपने जिले के लाल पर गर्व है, जिन्होंने देश की खातिर अपनी जान न्योछावर कर दी. बता दें कि शहीद खुर्शीद खान की अंतिम यात्रा में सैकड़ों लोग शामिल हुए, जिन्होंने नम आंखों से शहीद जवान की अं’तिम विदाई की.

बता दें कि शहीद खुर्शीद खान का उनके पैतृक गांव घोसिया काला में अं’तिम सं’स्कार किया गया और उन्हें गॉर्ड ऑफ ऑनर दिया गया. इस दौरान जिले के डीएम, एसपी, सीआरपीएफ के आईजी मौजूद थे. स्थानीय विधायक संजय यादव ने शहीद के परिजनों को केंद्र और राज्य सरकार से हर संभव मदद दिलाने की बात कही. जिलाधिकारी पंकज दीक्षित ने बताया कि शहीद के परिवार को बिहार सरकार के तरफ से 11 लाख रुपए की चेक दी गई है.

परिवार का हाल 

पत्नी नगमा खातून तो श’व के साथ ऐसे लि’पट गयी कि वह अपने शहीद पति को छोड़ना नहीं चाह रही थी। उसके विला’प व बार- बार बे’होश होने से अधिकारियों को श’व के पास से ह’टाने के लिए काफी मश’क्कत करनी पड़ी।

करीब एक घंटे बाद किसी तरह गांव की महिलाओं व सगे-संबंधियों ने नगमा को शहीद से अलग किया। तब जाकर श’व को अंतिम संस्कार के लिए घु’सियाबाल स्थित क’ब्रिस्तान ले जाया गया

क्या था मामला 

मालूम हो कि जम्मू कश्मीर के बारामूला में आतं’कियों से मु’ठभे’ड़ में बिहार के दो जवान सहित कुल चार जवान शहीद हुए हैं. शहीद खुर्शीद की याद में मंगलवार के शाम तिरंगे के बीच तोरणद्वार से घुसियां कला गांव सज गया। तिरंगे झंडे व देशभक्ति के आकर्षक बैनरों से सजे गांव में देश भक्ति गीत देर शाम तक गूंजता रहा।

शहीद के गांव में सोमवार की शाम से लेकर मंगलवार की देर रात तक छोटे-बड़े अधिकारियों का तांता लगा रहा। एसडीओ विजयंत, एसडीपीओ राजकुमार, भूमि उपसमाहर्ता मधुसूदन प्रसाद, एएसडीएम दिलीप कुमार, प्रशिक्षु डीएसपी अजीत प्रताप सिंह चौहान आदि कई ‘अधिकारी तैनात रहे।