मुकुल रॉय की घर वापसी पर CM ममता बनर्जी का आया पहला बड़ा बयान

पश्चिम बंगाल में चु’नाव हारने के बाद भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) को एक बड़ा झ’टका लगा है. बीजेपी के बड़े नेता मुकुल रॉय अपने बेटे शुभ्रांशु के साथ तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) में वापस चले आए हैं. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, सांसद अभिषेक बनर्जी की मौजूदगी में उन्होंने टीएमसी ज्वाइन कर ली है.

इस संबंध में ममता बनर्जी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की. उनके साथ मुकुल रॉय भी मौजूद रहे. ममता ने कहा की बीजेपी में बहुत ज्यादा शोषण है. वहां लोगों का रहना मुश्किल है. बीजेपी सामान्य लोगों की पार्टी नहीं है. ममता ने कहा कि मुकुल घर का लड़का है. उसकी वापसी हुई है. मेरा मुकुल के साथ कोई मतभेद नहीं है. सीएम ममता ने कहा कि जिन्होंने टीएमसी के साथ ग’द्दारी की है, उनको पार्टी में नहीं लेंगे. बाकी लोग पार्टी में आ सकते हैं.

आपको बता दें कि विधानसभा चुनाव में ममता बनर्जी को मिली बड़ी जीत के बाद कई पुराने सहयोगी टीएमसी में वापस आना चाहते हैं. इसमें मुकुल रॉय का नाम सबसे ऊपर था. मुकुल रॉय, बीजेपी में शुभेंदु अधिकारी के बढ़ते कद से बेचैन बताए जा रहे थे. यही वजह है कि वह अपनी पुरानी पार्टी में वापस लौटना चाहते थे.

सूत्रों के मुताबिक मुकुल रॉय ने कृष्णानगर उत्तर सीट से इस्तीफा देने की  पेशकश की है. वह यहां से जीते हैं, विधायक हैं. मुकुल रॉय के बेेटे  शुभ्रांसु रॉय यहां से टीएमसी के टिकट पर चु’नाव ल’ड़ सकते हैं.

सूत्रों का कहना है कि पिछले एक हफ्ते में मुकुल रॉय ने ममता बनर्जी से फोन पर 4 बार बात की. चु’नाव से पहले ही मुकुल, टीएमसी में आना चाहते थे. दरअसल, मुकुल को पहले दिलीप घोष से दिक्कत थी. ज्वाइन करने के बाद उन्हें पार्टी ऑफिस में जगह नहीं मिली. कैलाश विजयवर्गीय, मुकुल के गुरु थे. बीजेपी ने कैलाश को बंगाल से दूर कर दिया है.

टीएमसी नेता सुखेंदु शेखर राय ने मुकुल के टीएमसी में जाने को लेकर बीजेपी पर नि’शाना साधा है. उन्होंने ट्वीट कर कहा कि ‘बीजेपी का ताश के पत्तों की तरह बिखरना तय है. बंगाल मेें यह जल्द  होगा. आज जो हो रहा है यह इसकी शुरुआत है. बाद में बीजेपी छो’ड़ने वालों की संख्या की गिनती करनी मु’श्किल होगी. आओ फिर से दीदी ओ दीदी कहो… बदले में अच्छा जवाब मिलेगा भाई.’