ममता ने लिखा सोनिया, पवार, स्टालिन, तेजस्वी, उद्धव, केजरीवाल, और सभी बड़े नेताओ को ख़त, बोलीं- बीजेपी के खि’लाफ…

पश्चिम बंगाल में गुरुवार को दूसरे चरण की वो’टिंग होनी है। इससे ठीक एक दिन पहले ममता बनर्जी ने विपक्षी पार्टियों के नेताओं को चिट्ठी लिखी है। इस चिट्ठी के जरिए ममता ने लोकतं’त्र बचाने के लिए विपक्षी दलों से एकजुट होने की अपील की है। उन्होंने आरो’प लगाया है कि भाजपा देश में एक पार्टी का शासन चाहती है। उन्होंने कहा कि बंगाल के राज्यपाल बीजेपी कार्यकर्ता की तरह काम कर रहे हैं। ईडी, सीबीआई, गै’र-बीजेपी नेताओं को नि’शाना बना रही हैं।

बता दें कि ममता बनर्जी नंदीग्राम से सुवेंदु अधिकारी के खि’लाफ चुनाव ल’ड़ रही हैं। इस सीट पर भी दूसरे फेज में ही चु’नाव होने हैं और चुनाव प्र’चार मंगलवार को ही ख’त्म हो चुका है। हालांकि, ममता ने सभी गै’र-भाजपा दलों को व्यक्तिगत चिट्ठी लिखकर लोकतंत्र को बचाने और सभी के साथ आने की बात कही है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अपनी चिट्ठी में लिखा, ‘मेरा मानना है कि लोकतंत्र और संविधान पर बीजेपी के हम’लों के खि’लाफ एकजुट और प्रभावी सं’घर्ष का समय आ गया है।’

किन नेताओं को लिखी चिट्ठी?: ममता बनर्जी ने कांग्रेस प्रमुख सोनिया गांधी, एनसीपी नेता शरद पवार, डीएमके प्रमुख एमके स्टालिन, समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव, आरजेडी नेता तेजस्वी यादव, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक, झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगन रेड्डी के अलावा केएस रेड्डी, फारूक अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती और दीपांकर भट्टाचार्य को भी पत्र भेजा है।

ममता का आरो’प- भाजपा पैसे के द’म पर खरीद रहीं नेता: ममता ने चिट्ठी में ये भी लिखा है कि केंद्र सरकार ने योजनाओं के लिए राज्य का फं’ड रो’क दिया है। ममता का ये भी आरो’प है कि बीजेपी पैसे के द’म पर नेताओं को खरीद रही है। बंगाल सीएम का आरो’प है कि निजीकरण के जरिए भाजपा देश के प्रजातं’त्र पर हम’ला कर रही है।

‘दिल्ली में आवाज को द’बा देना चाहती है भाजपा’: ममता ने पत्र में कहा है कि कि जिस तरह से भाजपा ने दिल्ली राज्यपाल को ज्यादा ता’कत देने वाले बिल को पास करने की कोशिश की है, इसके खि’लाफ आवाज उठाना जरूरी है। उन्होंने कहा कि भाजपा एक स’त्तावादी पार्टी है। ममता ने कहा कि हर राज्य की आवाज और जो आवाज उससे सामंजस्य ना रखे उसे द’बा देना चाहती है। ममता ने कहा कि उपराज्यपाल को दिल्ली का अघोषित वायसराय बना दिया गया, जो गृह मंत्री और प्रधानमंत्री के लिए एक प्रतिनिधि (प्रॉ’क्सी) के रूप में काम कर रहे हैं।