सरकार गि’राने की अटकलों पर उद्धव ठाकरे का धाकड़ बयान- मुझे पता है बीजेपी की खिचड़ी कैसे…

महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे सरकार (Maharashtra Government) ने एक साल पूरे कर लिए हैं. इस मौके पर मुख्यमंत्री और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने पार्टी के मुखपत्र सामना (Saamana) को इंटरव्यू दिया. सामना के कार्यकारी संपादक संजय राउत (Sanjay Raut) ने उनका इंटरव्यू लिया. इस दौरान उद्धव ठाकरे ने बीजेपी (BJP) पर जम’कर हम’ला बोला.

उद्धव ठाकरे ने केंद्र सरकार पर नि’शाना साधते हुए कहा, ‘ईडी और सीबीआई का ड’र किसे दिखाते हो? महाराष्ट्र सरकार को जनता का आशीर्वाद है.’ उन्होंने बीजेपी पर तंज क’सते हुए कहा, ‘सरकार ने एक साल पूरे कर लिए हैं. सरकार आज गिरा’एंगे, कल गि’राएंगे, इस दौरान ऐसा बोलने वालों के दांत गि’र पड़े हैं.  हमारे आ’ड़े आने वालों को हम आ’ड़ा कर देंगे. आपकी खिचड़ी कैसे पकानी है, मुझे अच्छी तरह से पता है.’

संजय राउत ने जब उद्धव ठाकरे से पूछा, ‘कहा जा रहा है कि महाराष्ट्र में सरकार ठीक से नहीं चल रही. ये सरकार गि’र जाएगी? ‘ इस पर ठाकरे ने कहा, ‘सरकार गि’रेगी कहने वाले खुद अपने मुंह के बल गि’रे हैं. हमारी सरकार आगे चलेगी और कार्यकाल पूरा करेगी. महाराष्ट्र महाविकास अघाड़ी सरकार बनाने में कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना की अहम भूमिका है. सोनिया गांधी और शरद पवार ने बड़ी भूमिका निभाई है. सबसे साथ आने से ये मुमकिन हुआ है.’

BMC से शिवसेना का झंडा उतारना मुमकिन नहीं

उद्धव ठाकरे ने बीजेपी को चु’नौती देते हुए कहा, ‘मुंबई महानगर पालिका से भगवा (झंडा) उतारना मुमकिन नहीं है. उनमें ताकत हो तो ल’ड़ाई करे.’ ठाकरे ने कहा, ‘शिवसेना पर जनता का विश्वास है. इससे ही तो मुझे ताकत मिलती है.’

मराठी मानुस पर अन्याय सहन नहीं करूंगा

उद्धव ठाकरे ने एक बार फिर से मराठी लोगों का मु’द्दा उठाया. उन्होंने कहा, ‘मैं मराठी मानुस पर कोई अन्याय सहन नहीं करूंगा. कभी नहीं करूंगा. मंदिरों में घं’टा ब’जाने से कोई हिं’दू नहीं होता. हिं’दुत्व आपके तन मन में होता है. इसलिए वो (बीजेपी) हमें हिं’दुत्व ना सिखाए.’

सरकारी एजेंसी का हो रहा दुरुपयोग

केंद्र सरकार के लिए उद्धव ठाकरे ने कहा, ‘देशभर में सरकारी एजेंसी का दुरुपयोग हो रहा है. सत्ता का दुरुपयोग कर हमारे ऊपर ना आएं. हम भी तुम्हारे पीछे लग सकते हैं. हमारे ऊपर उंगलिया उठाने वालों के हाथ धोक’र पीछे प’ड़ जाऊंगा. बद’ले की भावना से राजनीति ना करें.’