महाराष्ट में पूर्ण रूप से लगेगा लॉकडाउन ? CM ठाकरे ने बैठक के बाद कही ये बात

भारत में कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य महाराष्ट्र है। महाराष्ट्र में संपूर्ण लॉ’कडाउन लगाने को लेकर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने रविवार (11 अप्रैल) को कोविड-19 टास्क फोर्स के साथ बैठक की थी। लॉ’कडाउन को लेकर सीएम उद्धव ठाकरे सोमवार को यानी आज भी बैठक करने वाले हैं। इससे पहले महाराष्ट्र में लॉ’कडाउन लगाने को लेकर शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में लिखा है कि लॉ’कडाउन लगाना ही पड़ेगा, राज्य सरकार के पास और कोई ऑप्शन नहीं है।

शिवसेना ने मुखपत्र सामना में विपक्ष पर तं’ज करते हुए लिखा है, ‘महाराष्ट्र में स’ख्त लॉक’डाउन लगाना ही प’ड़ेगा। ऐसा संकेत बैठक में सीएम उद्धव ठाकरे ने रविवार को दिए हैं। विपक्ष को ड’र है कि लॉ’कडाउन के कारण लोगों की आर्थिक स्थिति फिर से कमजो’र हो जाएगी। लेकिन फिलहाल लोगों का जान गंवाने का जो ‘अनर्थचक्र’ जारी है उसे अगर रोकना है तो, राज्य में लॉकडाउन और स’ख्त पाबं’दियां अनिवार्य है। ऐसा सीएम ने बैठक में कहा है।”

सामना ने लिखा है, बीजेपी ने नरेंद्र मोदी द्वारा लगाए गए पहले लॉक’डाउन का समर्थन किया था। आज हमारी स्थिति बहुत खरा’ब है। गुजरात महाराष्ट्र से भी बदतर है। केंद्र को गरीबों को पैकेज देने के लिए महाराष्ट्र की मदद करने की जरूरत है। वैक्सीन की कमी को लेकर भी सामना ने मोदी सरकार पर क’सा तं’ज महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ पार्टी शिवसेना ने सोमवार को ‘टीका उत्सव’ के दौरान राज्य को कोरोना वैक्सीन की डोज र्याप्त मात्रा में उपलब्ध नहीं कराने के लिए केंद्र पर हम’ला किया है।

सामना में शिवसेना ने पूछा है, ”क्या महाराष्ट्र में भाजपा का सीएम नहीं है तो राज्य की जनता को इसके लिए कीमत चुकानी होगी? क्या गै’र-बीजेपी शासित राज्यों को वैक्सीन देकर टीका उत्सव को और अधिक शानदार बनाना केंद्र सरकार का कर्तव्य नहीं है? भाजपा महाराष्ट्र को दिल्ली के सामने राज्य का पक्ष रखना चाहिए।” शिवसेना ने यह भी कहा कि कोविड-19 के मा’मलों में भारी उछा’ल के बीच राजनीति को अलग रखा जाना चाहिए।

वैक्सीन की कमी को लेकर भी सामना ने मोदी सरकार पर क’सा तं’ज महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ पार्टी शिवसेना ने सोमवार को ‘टीका उत्सव’ के दौरान राज्य को कोरोना वैक्सीन की डोज र्याप्त मात्रा में उपलब्ध नहीं कराने के लिए केंद्र पर हम’ला किया है।

सामना में शिवसेना ने पूछा है, ”क्या महाराष्ट्र में भाजपा का सीएम नहीं है तो राज्य की जनता को इसके लिए कीमत चु’कानी होगी? क्या गैर-बीजेपी शासित राज्यों को वैक्सीन देकर टीका उत्सव को और अधिक शानदार बनाना केंद्र सरकार का कर्तव्य नहीं है? भाजपा महाराष्ट्र को दिल्ली के सामने राज्य का पक्ष रखना चाहिए।” शिवसेना ने यह भी कहा कि कोविड-19 के मा’मलों में भारी उछा’ल के बीच राजनीति को अलग रखा जाना चाहिए।

महाराष्ट्र के मंत्री असलम शेख ने रविवार (11 अप्रैल) की हुई बैठक को लेकर कहा कि आज की बैठक में कुछ लोग 2 सप्ताह के लिए लॉ’कडाउन के पक्ष में थे, तो कुछ लोगों ने 3 सप्ताह के लिए लॉ’कडाउन का सुझाव दिया है। हालांकि कोविड-19 टास्क फोर्स के साथ आज की बैठक में सभी का विचार था कि राज्य में लॉ’कडाउन तो लागू होना ही चाहिए। कल (सोमवार 12 अप्रैल) फिर बैठक होगी।