यूपी के बाद अब इस बीजेपी शासित राज्य ने ध’र्मांतरण पर निकला ये कानू’न, होगी 1 से 10 साल तक कै’द

मध्य प्रदेश कैबिनेट ने ध’र्मांतरण विरो’धी विधेयक को पास कर दिया है। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार और हिमाचल प्रदेश सरकार के बाद मध्य प्रदेश में भी ‘लव जि’हाद’ के खि’लाफ इस कानू’न को बनाने का कदम उठाया गया है। इसमें नाबा’लिग और दलि’तों के ज’बरन ध’र्मांतरण पर स’जा का प्रावधान किया गया है। विधानसभा में बीजेपी का बहुमत होने की वजह से आसानी से यह विधेयक पास हो सकता है।

मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्र ने बताया, ‘इस विधेयक में किसी का ज’बरन ध’र्मांतरण करवाने पर 1 से 5 साल कैद की स’जा का प्रावधान है और कम से कम 25 हजार रुपये जुर्मान लागाया जाएगा।’ उन्होंने कहा, ‘इस नए कानू’न के तहत किसी ना’बालिग, महिला या फिर ‘दलित, आदिवासी का ज’बरन ध’र्मांतरण करवाने पर 2 से 10 साल की स’जा हो सकती है और कम से कम 50 हजार रुपये जुर्माना देय होगा।’

इस विधेयक में कहा गया कि अगर कोई पहचान छि’पाकर या फिर ब’हला फु’सलाकर शादी करता है तो इसे शून्य समझा जाएगा। नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि यह देश का सबसे कठोर कानू’न होगा और जल्द इसे विधानसभा में पेश किया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस तरह की शादी अगर टू’टती है तो संतान संपत्ति का अधिकारी होगा और महिला को भी गु’जारा भत्ता मिलेगा।

बता दें कि उत्तर प्रदेश में अभी एक महीने पहले ही ध’र्मांतरण विरो’धी कानू’न लागू किया है। इसमें प्रावधान है कि धर्म परि’वर्तन से कम से कम दो महीने पहले जिलाअधिकारी को इसकी सूचना देनी होगी। इसमें कम से कम 15 हजार रुपये के जुर्माने के साथ 1 से पांच साल तक की स’जा का प्रावधान है। हालांकि ना’बालिग, महिला और दलित के साथ अगर ऐसा होता है तो जुर्माना 25 हजार रुपये और स’जा 3 से 10 साल की होगी।