यूपी: राजधानी लखनऊ में लगी धारा-144, 1 दिसंबर से लागू होंगे ये नियम

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ (Lucknow) में एक दिसंबर तक धा’रा-144 लागू रहेगी. सरकार ने ये फैसला राजनीतिक दलों के ध’रने, प्रदर्श’न की आशं’का के अलावा कोरोना वायरस (COVID-19) का प्रभाव बढ़ने और त्यौहारों में भी’ड़ जुटने को देखते हुए लिया गया है. साथ ही आदेश दिया गया है कि शादी समारोह व अन्य आयोजनों के लिए कमिश्नरेट से अनुमति लेनी होगी. नियमों के उल्लं’घन पर का’र्रवाई की जाएगी.

संयुक्त पुलिस आयुक्त, कानू’न एवं व्यवस्था नवीन अरोरा ने बुधवार को ये आदेश जारी किया. इसमें कहा किया है कि उत्तर प्रदेश विधानपरिषद की खंड स्‍नातक और खंड शिक्षक चुनाव और काउंटिंग के मद्देनजर निषेधाज्ञा बढ़ाने का फैसला लिया गया है. इस दौरान राजनैतिक, सामाजिक और धार्मि’क आयोजनों के लिए आवेदन करना होगा. जिसके बाद 100 लोगों को शामिल होने की अनुमति दी जाएगी.

जेसीपी के मुताबिक 23 नवंबर कोरोना के लिए नई गाइडलाइन जारी की गई थी. जिसके तहत सोशल डिस्टेंसिंग, थर्मल स्कैनिंग, सैनेटाइजेशन और फेस मास्क लगाना अनिवार्य है. नियम का उल्लघं’न करने वालों के खि’लाफ महामा’री अधिनियम की धा’रा-188 के तहत का’र्रवाई की जाएगी.

यूपी में एस्मा लागू

उधर योगी सरकार ने बुधवार को ही प्रदेश एसेंशियल सर्विसेज मेनटेनेंस एक्ट (एस्मा) लागू कर दिया है. इस निर्णय के बाद प्रदेश में अगले 6 महीने तक सरकारी कर्मचारी ह’ड़ताल पर नहीं जा सकेंगे. दरअसल योगी सरकार का मानना है कि कि प्रदेश में कोरोना वायरस एक बार फिर तेजी प’कड़ रहा है, ऐसी स्थितियों को देखते हुए किसी भी परिस्थिति से निप’टने के लिए एस्मा लागू किया गया है. एस्मा एक्ट के दौरान कोई सरकारी कर्मचारी ह’ड़ताल पर नहीं जा सकेगा, अगर वो ऐसा करता है तो उसके खि’लाफ का’र्रवाई करने के लिए सरकार स्वतं’त्र होगी. उसकी बर्खास्तगी भी हो सकती है.