बिहार की राजनीति में आया भूचाल, नीतीश सरकार से समर्थन वापस ले सकती है पासवान की पार्टी: सूत्र

बिहार में अब विधानसभा चुनाव का वक्‍त नजदीक आ रहा है। ऐसे में यहां की राजनीति से जुड़ी एक बड़ी खबर सामने आ रही है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, राम विलास पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) नीतीश कुमार सरका से समर्थन वापस ले सकती है। पार्टी सूत्रों के मुताबिक, जनता दल यूनाइटेड के नेता ललन सिंह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का अप’मान किया है।

लोजपा इसी के कारण समर्थन वापस ले सकती है। कहा जा रहा है कि लोजपा नेता चिराग पासवान बीजेपी प्रमुख जेपी नड्डा से मिलें हैं। इस मुलाकात में दोनों नेताओं के बीच इस मु’द्दे समेत कई अन्य मु’द्दों पर चर्चा हुई। उसके बाद चिराग पासवान ने पटना ऑफिस में पार्टी नेताओं की बैठक बुलाई। इस बैठक में ललन सिंह के ब’यान पर गं’भीरता से चर्चा हुई।

उसी बैठक के बाद कहा जा रहा है कि लोजपा नीतीश कुमार सरकार से समर्थन वापस ले सकती है। लल्‍लन सिंह के लिए चिराग ने कही ये बात मालूम हो कि दो दिन पूर्व चिराग पासवान को लोकसभा में जेडीयू संसदीय दल के नेता राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह ने कालीदास की उपमा देते हुए कहा था कि वे जिस डाल पर बैठे हैं, उसे ही काट रहे हैं। यह भी कहा था कि वे विपक्ष की भूमिका में हैं।

इसके बाद एलजेपी नेताओं ने ललन सिंह के खिलाफ बयान देना शुरू कर दिया था। इसके बाद दोनों दलों के रिश्‍तों में त’नाव चर’म पर पहुंच गया है। हालांकि, इसपर प्रतिक्रिया देते हुए चिराग ने कहा कि ललन सिंह अभिभावक के रूप में हैं, इसलिए वे उनके खिला’फ कुछ नहीं कहेंगे।

243 में लोजपा के 2 विधायक

बिहार में विधानसभा की कुल 243 सीटें हैं। इनमें से लोजपा के 2 विधायक हैं। ऐसे में अगर वह समर्थन वापस भी लेते हैं तो नीतीश सरकार पर किसी तरह की आं’च नहीं आने वाली है।

नड्डा से मिलने के बाद अपने नेताओं से मिले चिराग पासवान

कहा जा रहा है कि लोजपा नेता चिराग पासवान बीजेपी प्रमुख जेपी नड्डा से मिले। इस मुलाकात में दोनों नेताओं के बीच इस मुद्दे समेत कई अन्य मुद्दों पर चर्चा हुई। उसके बाद चिराग पासवान ने पटना ऑफिस में पार्टी नेताओं की बैठक बुलाई। इस बैठक में ललन सिंह के बयान पर गं’भीरता से चर्चा हुई। उसी बैठक के बाद कहा जा रहा है कि लोजपा नीतीश कुमार सरकार से समर्थन वापस ले सकती है।