बड़ी ख़बर: इस राज्य में नए कृषि क़ानून के ख़िलाफ़ प्रस्ताव पारित, बीजेपी MLA…

केरल: देशभर में जारी किसान आं’दोलन के बीच और केंद्र सरकार के कृषि कानू’नों के मद्देनज़र केरल में आज विधानसभा का एक दिन का विशेष सत्र बुलाया गया. केरल विधानसभा में केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीन कृषि कानूनों के खि’लाफ प्रस्ताव पारित किया गया. प्रस्ताव में कहा गया कि किसानों की समस्याओं को दूर किया जाना चाहिए और केंद सरकार को तीनों कृषि कानूनों को वापस लेना चाहिए.

केरल विधानसभा के विशेष सत्र के दौरान राज्य के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने कहा कि वर्तमान स्थिति से यह पता लगता है कि अगर किसानों का आं’दोलन जारी रहा, तो यह केरल को गंभीर रूप से प्रभावित करेगा और अगर अन्य राज्यों से खाद्य पदार्थों की आपूर्ति बंद हो जाती है तो केरल में भु’खमरी हो जाएगी.

प्रस्ताव में कहा गया है कि देश एक गं’भीर परिस्थिति से गु’जर रहा है और आंदोलनकारी किसानों के साथ खड़ा होना राज्य सरकार का कर्तव्य है, प्रस्ताव में इन तीनों को किसान विरो’धी और उद्योगपतियों के हित में बताया गया है.

इस प्रस्ताव को कांग्रेस के साथ-साथ विपक्षी दलों ने अपना पूरा समर्थन दिया तो वहीं भाजपा विधायक ओ. राजगोपाल ने केरल के सीएम द्वारा केंद्र के कृषि कानू’नों का विरो’ध करते हुए उठाए गए प्रस्ताव का विरो’ध किया. उन्होंने कहा कि इसी तरह के कृषि कानू’नों का वादा कांग्रेस ने अपने चुनावी घोषणा पत्र में किया था. सीपीआई (एम) ने भी इस तरह के कानू’न लाने की मांग की. अब, दोनों दल इसका विरो’ध कर रहे हैं. किसानों को गु’मराह नहीं होना चाहिए.