कानपुर में मुस्लिम की पि’टाई पर बोला बजरंग दल- ये मुगलकाल नहीं, हिं’दू होंगे…

उत्तर प्रदेश के कानपुर में ई-रिक्शाचालक अफसार की पि’टाई का मा’मला पूरी तरह से मजहबी रं’ग ले चुका है। हिंदू संगठन बजरं’ग दल के पदाधिकारियों ने कहा है कि वे शांत नहीं बैठने वाले हैं। अगर हिं’दू प’रेशान होंगे, तो वे उन्हें बचाने के लिए ख’ड़े हैं, क्योंकि यह मुगलकाल नहीं है। यह प्रभु श्रीराम की धरती है।

कानपुर में दल के जिला संयोजक दिलीप सिंह बजरंगी ने मीडिया को बताया, “हम हिंदू समाज को आहत नहीं होने देंगे। हम अपने सनातन धर्म को बचाने के लिए स्वयं सक्षम हैं।

अगर हमारा हिं’दू परिवार किसी भी प्रकार से प’रेशान रहेगा, तब हम उसे बचाने के लिए ख’ड़े हैं।” वहीं, संगठन से जुड़े एक अन्य पदाधिकारी ने कहा, “हमारा संगठन कानपुर के हिं’दू समाज को आश्वस्त करना चाहता है कि किसी के द्वारा अगर हमारे ध’र्म पर आघा’त किया जाएगा, तब विश्व हिं’दू परिषद (विहिप) और बजरं’ग दल अब शांत नहीं बैठने वाला है। अब मु’गलों का काल नहीं है। अब यह भगवान राम की धरती है। हम जहां जी रहे हैं, वहां रामराज्य स्थापित होने वाला है।”

क्या है पूरा मामला?: यह के’स कानपुर नगर का है, जिसमें जबरन ‘जय श्री रा’म’ का ना’रा लगवाते हुए एक मु’स्लिम ई-रिक्शा चालक की कुछ लोगों द्वारा क’थित पि’टाई की गई थी। बुधवार को सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म्स पर इस घ’टना से जुड़ा एक वीडियो भी वायरल हुआ था, जिसमें कुछ लोग रिक्शा चालक को पी’ट रहे थे और उससे कथित तौर पर ‘जय श्री रा’म’ बुलवा रहे थे।

रिक्शाचालक की बच्ची इस दौरान हम’लावरों के आगे पिता को छो’ड़ देने की मिन्नतें करती गि’ड़गि’ड़ाती नजर आ रही थी। क्लिप में यह भी दिखा कि हम’लावरों ने मु’स्लिम रिक्शाचालक को पुलिस की मौजूदगी में पी’टा।

तो ये है झग’ड़े की असल वजह: शहर की कच्ची बस्तियों में आसपास रहने वाली कुरेशा और रानी में कुछ रोज पहले वि’वाद हुआ था। अफसार कुरेशा के देवर हैं। दरअसल, कुरेशा का बेटे ई-रिक्शा से घर आया, तो उसका टायर रानी के दरवाजे से जा ल’ड़ा। यहीं से दोनों परिवारों में वि’वाद जन्मा था। आगे 12 जुलाई को यह मा’मला पुलिस के पास पहुंचा।

कुरेशा ने तब रानी और उनके पति के खि’लाफ मा’रपी’ट के आरो’प से जुड़ी एफआईआर दी थी। 31 जुलाई को रानी ने कुरेशा के तीन बेटों पर छे’ड़खानी का आ’रोप लगाते हुए के’स किया।

“20 हजार में ध’र्म बेचने को कहा”: इतना ही नहीं, बाद में रानी ने आ’रोप लगाया, “कुरेशा ने कहा था- मु’स्लिम बन जाओ। हमने मना किया, तो 20 हजार रुपए का ला’लच दिया। कहा कि अपना ध’र्म बेच दो। नहीं तो रहना दुश्वार कर देंगे। जा’न से मा’र देंगे।” हालांकि, गली-गली जाकर चू’ड़ियां बेचने वाली कुरेशा ने इस आरो’प को खारिज किया।

अपनी तंग हा’लत का हवाला देते हुए स्थानीय मीडिया से कहा, “सब्जी लाने तक के पैसे तो होते नहीं है, हम 20 हजार रुपए कहां से देंगे? हमारे पास खाने तक का पैसा नहीं है। ये सब लोग झू’ठ बोल रहे हैं।” इसी बीच, अफसार की बीवी रूबीना ने बताया कि बच्ची दह’शत में है। न खाना खा रही है। न खेल रही है। वह ड’र रही है कि कहीं कोई उसे और उसके परिवार को मा’र न दे।