जामा मस्जिद खोलने को लेकर दिल्ली के शाही इमाम ने किया ये बड़ा ऐलान

दिल्ली की ऐतिहासिक जामा मस्जिद को सामूहिक तौर पर नमाज अदा करने के लिये चार जुलाई को खोल दिया जाएगा. बता दें  11 जून को, दिल्ली में कोविड-19 के मामलों में तेजी से बढ़ोतरी के कारण ‘गंभीर’ हालात के मद्देनजर मस्जिद को 30 जून तक के लिए बंद कर दिया गया था.

जामा मस्जिद के शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी ने मंगलवार को यह जानकारी देते हुए कहा कि मस्जिद को दोबारा खोलने का फैसला लोगों और विशेषज्ञों के साथ विचार-विमर्श के बाद लिया गया.

बुखारी ने, “अनलॉक-1 के तहत लगभग सब कुछ खुल गया है और सामान्य गतिविधियां भी शुरू हो चुकी हैं. हमने लोगों द्वारा नमाज अदा किए जाने को लेकर मस्जिद खोलने का फैसला लिया है क्योंकि वायरस से बचाव से जुड़े सुरक्षा उपायों को लेकर जागरूकता बढ़ी है.” उन्होंने कहा कि लोगों को संक्रमण की चपेट में आने से बचने के लिये शारीरिक दूरी और मास्क पहनने जैसे ऐहतियाती नियमों का पालन करना होगा.

शाही इमाम के निजी सचिव अमानुल्लाह की इस महीने की शुरुआत में कोरोना वायरस संक्रमण से मृत्यु हो गई थी. इसके बाद लोगों को घर पर नमाज अदा करने के लिए कहा गया था. हालांकि मस्जिद के कुछ कर्मचारियों को इसके अंदर पांच वक्त की नमाज अदा करने की अनुमति दी गई थी.

इन नियमों का करना होगा पालन

मस्जिद में नमाज के दौरान सोशल डिस्टेसिंग का पालन करना होगा। साथ ही मास्क पहनना भी जरूरी है। साथ ही नमाज अदा करने के लिए जनमाज़ साथ लेकर आना होगा और सभी लोगों को वज़ू अपने-अपने घरों से करके आना होगा

बता दें कि शाही इमाम के निजी सचिव की कुछ महीने पहले कोरोना वायरस के चलते मौत हो गई थी। लिहाजा तब से घर पर ही नमाज अदा करने के लिए कहा गया था। हालांकि मस्जिद के कुछ कर्मचारियों को इसके अंदर पांच वक्त की नमाज अदा करने की अनुमति दी गई थी।