समझौते पर अपने ही देश में घि’रे नेतन्याहू, इजरायली सांसदों ने PM को सुनाई…

इजरा’यल-फिलिस्तीन के बीच 11 दिन चले सं’घर्ष के बाद गुरुवार रात को सी’जफा’यर का ऐलान कर दिया गया. संघ’र्षविराम की घोषणा के बाद फिलिस्तीन में जश्न का माहौ’ल है. सी’जफा’यर लागू होने के बाद गाजा सिटी में फिलिस्ती’नी सड़कों पर निकल आए और जश्न मनाया.

हमास ने इसे अपनी जीत बताया है. लेकिन सी’जफा’यर को लेकर इजरा’यल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतान्याहू अपने ही देश में घि’र गए हैं. बेंजामिन नेतन्याहू के कुछ करीबी राजनीतिक सहयोगियों सहित कई दक्षिणपंथी सांसदों ने उन्हें हमास के साथ सं’घर्षविराम को लेकर आ’गाह किया है.

प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के सु’रक्षा मंत्रिमंडल ने गा’जा प’ट्टी में 11 दिनों के सैन्य अभियान को रो’कने के लिए एकतरफा सं’घर्ष विराम को मंजूरी दी है. इजरायली कैबिनेट ने इसकी पुष्टि की है.

असल में, नेतन्याहू ने गाजा में चल रहे सैन्य अभियानों के साथ-साथ विदे’शी नेताओं की तरफ से सीजफा’यर के लिए राजनयिक प्रयासों पर चर्चा करने के लिए गुरुवार शाम को उच्च-स्तरीय सुरक्षा कैबिनेट की बैठक बुलाई. बैठक में कैबिनेट के मंत्रियों ने संघ’र्षविराम प्रस्ताव के पक्ष में मतदान किया.

टाइम्स ऑफ इजरा’यल की रिपोर्ट के मुताबिक, कैबिनेट में मतदान से पहले न्यू होप के नेता गिदेयोन सार ने नेतन्याहू सरकार की सी’जफायर की योजना की आलोचना की है. उन्होंने कहा कि सीजफायर हमास और अन्य ‘आतं’की गु’टों’ के खि’लाफ “इजरायल की का’र्रवाई को गं’भीर रूप से नु’कसान पहुंचाएगा.”

गिदेयोन सार ने कहा, ‘हमास को मजबूत होने से रोकने, गा’जा में बं’धक बनाए गए इजरायली सै’निकों और नागरिकों की बगै’र वापसी सीजफा’यर करना राजनीतिक नाका’मी होगी…और भविष्य में ब्याज सहित इसकी कीमत चु’कानी प’ड़ेगा.’

मुखर सहयोगी माने जाने वाले गिदेयोन सार अब इजरा’यली पीएम नेतान्याहू के बड़े आलोचक बन चुके हैं. उन्होंने नेतान्याहू के साथ दक्षिणपंथी सरकार के गठन से भी इनकार कर दिया है.

एक अन्य दक्षिणपंथी राजनेता और एविग्डोर लिबरमैन के अध्यक्ष यइज़रायल बेयटेनु सीजफायर को “नेतन्याहू की एक और विफलता” बताया है. टीवी चैनल 12 न्यूज से बातचीत में उन्होंने कहा, ‘आतं’की गुट के प्रति सरकार की पिछली नरमी के का’रण हमा’स इ’जरा’यल को ध’मकी देने की स्थिति में आ गया है और सीजफायर उसे और मजबूत बना सकता है.’ लिबरमैन ने नेतन्याहू पर ही ह’मास को मजबूत बनाने का आरो’प लगा दिया. उन्होंने कहा, हमा’स आज जहां है, वहां उसे पहुंचाने में नेतन्याहू की भूमिका है. नेतन्याहू ने ही हमास को मजबूत बनने में सक्षम बनाया है.