इस पार्टी के नेता का बड़ा बयान, कहा: ‘बीजेपी से गठबंधन की वजह से पार्टी चुनाव में हारी…’

इसी साल हुए तमिलनाडु विधानसभा चुनावों में उस समय की सत्ताधारी पार्टी एआईएडीएमके ने बीजेपी के साथ गठबंधन किया था। हालांकि, चुनावों में पार्टी को राज्य की सत्ता गंवानी पड़ी लेकिन इसकी टीस अभी तक एआईएडीएमके नेताओं के अंदर दिख रही है। पार्टी नेता और पूर्व मंत्री सी शनमुगम ने अब अपने बयान में एआईएडीएमके की हार के लिए बीजेपी के साथ गठबंधन को जिम्मेदार ठहराया है।

सी शनमुगम ने मंगलवार को एक बयान में कहा, ‘विधानसभा चुनावों में हार की सबसे बड़ी वजह बीजेपी से गठबंध है। इसी वजह से हमने अल्पसंख्यकों का वोट भी खो दिया।’

हालांकि, अन्नाद्रमुक नेतृत्व के पास अब भाजपा और पीएमके के साथ गठबंधन जारी रखने के अलावा कोई विकल्प नहीं है। एआईएडीएमके के कुछ नेताओं के मुताबिक, बीजेपी एआईएडीएमके के साथ रहने से ज्यादा खुश है, क्योंकि उसने 2016 में 4 विधानसभा सीटें जीती थीं, पीएमके अपनी निष्ठा को बहुत अच्छी तरह से बदल सकती है।

पलानीस्वामी और पन्नीरसेल्वम दोनों ने कहा था कि भाजपा गठबंधन के खिलाफ विरोध पार्टी की ओर से नहीं बल्कि व्यक्तियों की ओर से किया गया था। पीएमके नेता अंबुमणि रामदास की आलोचना करने के लिए एस. पुगाझेंडी जैसे वरिष्ठ नेता को निष्कासित करके नेतृत्व ने एक कड़ा संदेश भी दिया।

बता दें कि तमिलनाडु में एआईएडीएमके ने बीजेपी से गठबंधन किया था। बीजेपी ने 20 सीटों पर चुनाव लड़ा था। हालांकि, 234 सीटों वाली विधानसभा में एआईएडीएमके को सिर्फ 65 सीटों पर ही जीत मिली थी। वहीं, कांग्रेस और डीएमके के गठबंधन ने चुनाव में जीत हासिल कर सरकार बनाई।