साइलेंट हीरो बनकर इरफ़ान पठान सोशल मीडिया पर हुए वायरल, गरीबो के लिए कर रहे है…

भारतीय पूर्व क्रिकेटर इरफान पठान (Irfan Pathan) का दिल कितना बड़ा है इसका उदाहरण एक बार फिर देखने को मिला है। गौरतलब है कि इस समय पूरी दुनिया में कोरोनावायरस (COVID-19) का कहर बरप रहा है। ऐसे में छोटे-मोटे काम करने वाले लोगो के सामने आर्थिक सं’कट पैदा हो गई है। ऐसे में इरफान पठान एक बार फिर मदद को आगे आए हैं। बता दें कि मीडिया में आई खबर के अनुसार इरफान ने चेन्नई में मोची की दुकान चलाने वाले शख्स आर भास्कर’न को मदद के तौर पर 25 हजार रूपये दिए हैं।

आर भास्करन आईपीएल (IPL) के दौरान चेन्नई सुपर किंग्स के आधिकारिक मोची है। जब आईपीएल होता है तो वो टीम के खिलाड़ी और अधिकारियों के लिए काम करते हैं। आईपीएल होने के दौरान वो एक दिन में हजार रूपये तक कमा लिया करते थे, वैसे आम दिनों में भास्करन 500 रूपये तक कमाते हैं। लेकिन आईपीएल को स्थगित होने से उनको आर्थिक संकट का सा’मना करना पड़ रहा है।

इस दौरान वो 150 रूपये तक भी नहीं कमा पा रहे हैं। जब इरफान को भास्करन के बारे में पता चला तो उन्होंने ईएसपीएन क्रिकइंफो वेबसाइट में काम करने वाले एंकर रौनक कपूर को फोन कर मोची भास्करन का नंबर मांगा। रौनक कपूर ने अपने ट्वीट में इस बात का खुलासा किया है।

रौनक ने लिखा कि, 6 जून को इरफान ने मुझे फोन किया मुझसे भास्करन का नंबर देने के लिए कहा। मैंने फिर उसे भास्करन का नंबर दिया। कुछ समय बाद इरफान ने मुझे एक मैसेज भेजा और लिखा कि मैं काफी समय से भास्करन को फो कर रहा हूं लेकिन उसका फोन लग नहीं रहा है। मैंने इरफान का मैसेज पढ़ा लेकिन मेरे दिमाग से मैसेज की बात उतर गई और रिप्लाई करना भूल गया’। रौनक ने इसके बाद लिखा कि आज मैंने न्यू इंडियन एक्सप्रेस में छपी रिपोर्ट पढ़ी जिसमें इरफान ने भास्करन को 25 हजार रूपये इस विषम परिस्थिती में मदद को दिए। आर भास्करन की बात करें तो साल 1993 से एमए चिंदबरम स्टेडियम में जाकर भारत का हर एक मैच देख रहे हैं। भास्करन क्रिकेट के बड़े फैन भी हैं। बता दें कि एक्ट्रैस गौहर खान (Gauhar Khan) ने भी ट्वीट कर इरफान के इस काम की तारीफ की है।

इरफान के इस काम की तारीफ काफी हो रही है। बता दें कि पिछले कुछ समय से इरफान सोशल मीडिया पर एक्टिव हैं और अपने फैन्स को कोरोनावायरस से बचाव को लेकर अपनी राय देते रहते हैं। इसके अलावा इरफान और भाई यूसुफ ने मिलकर गरीबों की मदद भी इस दौरान की है। हा’ल के दिनों में इरफान ने सोशल मीडिया पर खुलासा किया है कि उनका करियर और ज्यादा बढ़ सकता था लेकिन चयनकर्ताओं ने उन्हें बूढ़ा समझ लिया और फिर कभी भी टीम में चयन को लेकर सोचा नहीं। बता दें कि इरफान ने ये भी कहा कि उन्होंने रिटायरमेंट की घोषणा इसलिए कि क्योंकि वो अब युवा क्रिकेटरों को तैयार करना चाहते थे।