हाई को’र्ट ने दिए हसीन जहां की सुरक्षा के निर्देश, मिली थी ये ध’म’की

कलकत्ता हाई को’र्ट ने कोलकाता पु’लिस को क्रिकेटर मोहम्मद शमी की पत्नी हसीन जहां को सुरक्षा मुहैया कराने के निर्देश दिए हैं। हसीन ने आ’रोप लगाए थे कि सोश’ल मी’डिया पर उनकी पोस्ट को लेकर कुछ लोग उनका रे’प और उन्हें जा’न से मा’रने की ध’मकी दे रहे हैं। हसीन जहां ने इंस्टाग्राम पर यह जानकारी दी है। हसीन जहां ने इंस्टाग्राम पर एक बांग्ला समाचार पत्र की कटिंग शेयर की है। उन्होंने इसके कैप्शन में मा’मले के बारे में विस्तार से जानकारी दी है।

हसीन जहां ने कैप्शन में लिखा है, ‘राम मंदिर भूमि पूजन पर सोश’ल मी’डिया में की गई कुछ पोस्ट को लेकर उनका रे’प करने और जा’न से मारने की ध’मकी दी गई थी। इस संबंध में हाई को’र्ट ने पु’लिस ने चार सप्ताह में रिपोर्ट मांगी है। मामले की सुनवाई जस्टिस देबांशु बसाक की पीठ कर रही है। मामले में हसीन जहां की ओर से एडवोकेट आशीष कुमार चौधरी ने अदालत को बताया कि सोशल मी’डिया में कुछ पोस्ट अपलोड करने पर कुछ व्य’क्तियों ने उनकी मुवक्किल हसीन जहां को ध’मकी दी।

हसीन जहां ने ध’मकी मिलने के बाद कोलकाता पु’लिस से इसकी शि’का’यत की, लेकिन उनकी ओर से कोई कदम नहीं उठाया गया।हसीन जहां के वकील के आ’रोप पर राज्य के वरिष्ठ अधिवक्ता अमितेश बनर्जी ने कहा कि पु’लिस ने शिकायत के बाद एफआईआ’र दर्ज कर ली है। पु’लिस मा’मले की जां’च कर रही है।

जां’च के बाद आगे कार्र’वाई होगी। इस पर अधिवक्ता आशीष कुमार चौधरी ने रेखांकित किया कि या’चिकाकर्ता ने पु’लिस को उस व्यक्ति और उन मोबाइल नंबरों की जानकारी दी है जिनसे याचिकाकर्ता को अब भी ध’म’कियां मिल रही हैं।

दोनों पक्षों को सुनने के बाद जस्टिस देबांशु बसाक ने आदेश दिया कि पु’लिस यह सुनिश्चित करे कि या’चिकाकर्ता के जीवन और उनकी संपत्ति को कोई नु’कसान न पहुंचे। हाई को’र्ट ने कोलकाता पु’लिस को यह भी निर्देश दिया कि हसीन जहां की शि’कायत पर अब तक जो भी कार्र’वाई की गई है, उसकी एक रिपोर्ट कोर्ट में पेश करें। कोर्ट ने इसके पु’लिस को चार हफ्ते का समय दिया है। बता दें कि हसीन जहां ने 28 अगस्त 2020 को पु’लिस को अपनी शि’कायत दी थी।