फिलिस्तीनी आं’दोलन प्रमुख इस्माइल का बड़ा बयान, कहा- जब तक अल-कुद्स आ’जाद नहीं हो जाता, हम…

हमास ने इस्राइली शासन की आ’क्रामकता में वृद्धि के बावजूद, अल-कुद्स के पवित्र क’ब्जे वाले शहर पर फि’लिस्तीनियों के अधिकार को बहा’ल करने की दिशा में अपने दृ’ढ़ संकल्प पर जो’र दिया है।

फिलिस्तीनी प्रतिरो’ध आं’दोलन के राजनीतिक ब्यूरो के प्रमुख इस्माइल हनीयेह ने शनिवार देर रात कहा  कि हम अल-कुद्स और अल-अक्सा मस्जिद की मुक्ति तक निश्चिंत नहीं होंगे। उन्होंने कहा, “वर्तमान फि’लिस्तीनी पी’ढ़ी ऐसा कर सकती है।” बता दें कि इस्राइली शासन ने 1967 में वेस्ट बैंक के फिलिस्तीनी क्षेत्र पर क’ब्जा कर लिया, जहां अल-कुद्स स्थित है।

शनिवार को गाजा स्थित सरकारी सूचना कार्यालय के प्रमुख सलामेह मरौफ ने बताया, पिछली रात के दौरान ही, शासन ने गाजा के खि’लाफ “300 हम’ले” किए। अधिकारी ने कहा कि सोमवार से इस क्षेत्र में हुए नु’कसान का अनुमान अब तक 260 मिलियन डॉलर लगाया जा सकता है।

हालांकि, हनीयेह ने कहा, “प्रतिरो’ध हमारा रणनीतिक विकल्प है।” उन्होंने याद दिलाया कि कैसे उन्होंने पहले पवित्र स्थल को “लाल रेखा” कहा था और इजरायल के प्रधान मंत्री बेंजामिन नेतन्याहू को “आग से खेलने” के खि’लाफ चे’तावनी दी थी।फ़ि’लिस्तीनी आं’दोलनों ने क़’ब्ज़े वाले फ़ि’लिस्तीनी भूमि की ओर हज़ारों रॉ’केट दा’गकर जवाबी का’र्रवाई की है। कई प्रोजेक्टाइल प्रदेशों की गह’राई में और उससे भी आगे निकल गए हैं।

अधिकारी ने कहा कि कैसे समूहों के प्रतिशो’ध ने तेल अवीव को क’ब्जे वाले क्षेत्रों में कर्फ्यू लगाने के लिए मजबूर किया। उन्होंने यह भी नो’ट किया कि सत्ता में आं’दोलन इतना बढ़ गया था, हालांकि शासन 15 से अधिक वर्षों से गा’जा को अवरुद्ध कर रहा है।हमास के नेता ने कहा, “प्रतिरो’ध कभी पीछे नहीं ह’टेगा, और अल-कुद्स और अल-अक्सा मस्जिद की रक्षा में तलवा’र और ढा’ल के रूप में काम करना जारी रखेगा।”

इस बीच, हमास की सैन्य शाखा एज़ेदीन अल-क़सम ब्रिगेड ने कहा कि उसने क’ब्जे वाले क्षेत्रों में बंदरगाह शहर अशदोद और तेल अवीव की ओर दर्जनों और रॉ’केट दा’गे हैं। हमास के जवाबी हम’ले के बाद तीन बार रॉ’केट सायरन बजाए गए, अल जज़ीरा के अनुसार, ल’ड़ाकों ने क’ब्जे वाली भूमि की ओर 30 रॉकेट दा’गे।

सोमवार-वर्तमान इजरायली आ’क्रमण के खि’लाफ प्रतिरो’ध के जवाबी का’र्रवाई के दौरान कुल नौ इ’जरायली मा’रे गए और 560 अन्य घा’यल हो गए।