संसद में दिखा सरकार का लाचार रवैया कहा- एयर इंडिया बेचीं नहीं तो करनी पड़ेगी बंद

केंद्र सरकार ने मंगलवार को संसद में सा’फ कर दिया कि क’र्ज में डूबी सर’कारी एयरलाइंस एयर इंडिया को बेचने के अलावा दूसरा कोई उपाय नहीं है. सिविल एविएशन मिनिस्टर हरदीप सिंह पुरी ने राज्यसभा में कहा कि अगर एयर इंडिया को बे’चा नहीं गया तो बंद करना पड़ जाएगा.

सरकार की मज’बू’री

दरअसल एक तरह से सरकार ने एयर इंडिया को लेकर हाथ ख’ड़े कर दिए हैं. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि एयर इंडिया के निजी’करण के अलावा कोई चारा नहीं है. मंगलवार को एयरक्राफ्ट संशोधन बिल 2020 राज्यसभा में पारित हो गया है. लोकसभा में यह बिल मार्च 2020 में ही पास हो गया था.

 60 हजार करोड़ रुपये का कर्ज

संशोधन बिल पास होने से पहले हरदीप सिंह पुरी ने राज्यसभा में कहा कि सरकार एयर इंडिया का परिचालन जारी रखने स्थिति में नहीं है. कंपनी पर 60 हजार करोड़ रुपये का क’र्ज है. सरकार के पास इसे निजी हाथों में सौंपने या बंद करने के अलावा कोई चारा नहीं है. पुरी ने सदन में कहा कि सरकार निजी हाथों में एयर इंडिया को इसलिए सौंपना चाहती है ताकि उसकी उड़ान जारी रहे.

एयरक्राफ्ट संशोधन बिल

एयरक्राफ्ट संशोधन बिल को अब राष्ट्रपति के हस्ताक्षर के लिए भेजा जाएगा. इस बिल में यात्रियों की सुरक्षा से खि’लवा’ड़ करने पर भा’री जु’र्मा’ने का प्रावधान किया गया है. इस बि’ल को मंजूरी मिलने के बाद हवाई उड़ानों में हुई ला’परवाही पर 1 करोड़ रुपये का जुर्मा’ना देना होगा. यह जुर्मा’ना सभी क्षेत्रों की एयरलाइंस कंपनियों पर लागू होगा.

का’नून के बदलाव

यह बिल साल 1934 के का’नून की जगह लेगा. फिलहाल हवाई उड़ान में ला’परवाही पर एयरलाइंस कंपनियों पर 10 लाख रुपये का जुर्मा’ना लगाया जाता है. लेकिन अब कानू’न में बदलाव के बाद उड़ान के दौरान ला’परवाही करने वाली एयरलाइंस कंपनियों पर एक करोड़ रुपये का जु’र्मा’ना लगाया जाएगा.

एयर इंडिया की ब’र्बा’दी की कहानी

एअर इंडिया के इतिहास पर नजर डालें तो कु’प्रबंधन और सरकारी सेवा में त’त्परता की वजह से एयर इंडिया का बे’जा इस्तेमाल हुआ. सर’कारी बकाया समय पर नहीं मिलने से बो’झ बढ़ता गया. अब क’र्ज में डूबी इस कंपनी को खरीदे कौन? बोली की तारीख लगातार बढ़ाई जा रही है. क्योंकि ख’रीदार मिल नहीं रहे हैं.

बढ़ती प्रति’स्पर्द्धा एक कारण

एयर इंडिया प्रबंधन का ढुलमुल रवै’या भी एक कारण रहा. एयर इंडिया की फ्लाइट्स अक्सर ले’ट लती’फी का शि’कार होती रहीं. कर्मचारियों में ह’ड़ताल आम बात हो गई थी. जिस वजह से सेवा’एं प्रभावित हुईं. साल 2018 एयर इंडिया के पास सिर्फ 13.3 प्रतिशत मार्केट शेयर था ये सिर्फ 45.06 लाख पैसेंजर्स थे.