कृषि कानू’नों पर केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण का आया बड़ा बयान

केंद्र सरकार के जिन तीन कृषि कानू’नों के खि’लाफ पिछले 10 दिनों से किसानों का प्रदर्श’न जारी है, उसको लेकर सरकार लगातार किसानों को समझाने की कोशिश कर रही है, लेकिन किसान अपनी मांगों से पीछे ह’टने को तैयार नहीं हैं। इस बीच वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि नए कृषि कानू’न किसी तरह की ज’ल्दबाजी में नहीं बनाए गए हैं।

इन तीनों बिलों को हितधारकों के साथ व्यापक चर्चा और काफी विचार विमर्श के बाद लाया गया था। इसके बाद सदन में भी तीनों कानू’नों पर गहन चर्चा हुई, तब जाकर इन्हें लागू किया जा सका है। निर्मला सीतारमण ने दा’वा किया है कि तीनों कृषि कानू’न किसानों को फायदा पहुंचाने के लिए ही है।

जल्द कोई ना कोई समाधान निकलेगा– वित्त मंत्री किसानों के प्रदर्श’न पर बोलते हुए निर्मला सीतारमण ने कहा कि हमें उम्मीद है कि किसानों की समस्याओं का जल्द समाधान नि’काल लिया जाएगा। वित्त मंत्री ने कहा कि हमारे कृषि मंत्री किसानों के साथ खुले मन से बातचीत कर रहे हैं और हमें उम्मीद है कि बहुत जल्द कोई ना कोई समाधान निकल ही जाएगा।

वित्त मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र बहुत सारा होमवर्क करने के बाद किसी चीज पर अं’तिम निर्णय लेते हैं, विभिन्न स्तरों पर परामर्श होते हैं। कृषि कानू’न में हो सकता है संशोधन- निर्मला सीतारमण वित्त मंत्री ने कहा कि कृषि कानू’न पर सं’देह करने वाले किसान खु’लकर सरकार से इस बारे में बात कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि कृषि मंत्री जी बैठे हैं, जिनके साथ किसान सार्थक बातचीत कर सकते हैं। वित्त मंत्री ने इस बात के भी सं’केत दिए हैं कि किसानों को संतुष्ट करने के लिए सरकार तीनों कृषि कानू’नों में संशोधन कर सकती है।

जारी रहेगी MSP- वित्त मंत्री MSP पर बोलते हुए निर्मला सीतारमण ने कहा कि किसानों की मदद के लिए बड़े स्तर पर न्यूनतम समर्थन मूल्य का इस्तेमाल किया गया है और आगे भी MSP और APMC जारी रहेगी।