कृषि विधेयक पर संसद में फिर ब’वाल- कांग्रेस बोली ये किसान की आत्मा पर चोट, लगाए ये आ’रोप

Farmers Pro’tes’t in Haryana and Punjab Today Latest News Live Updates: राज्यसभा में रविवार को कांग्रेस ने सरकार पर आ’रोप लगाया कि वह न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) स’माप्त करने और कार्पोरेट जगत को फायदा पहुंचाने के लिए दोनों नए कृषि विधेयक लेकर आयी है। हालांकि सरकार ने इसका खं’डन करते हुए कहा कि किसानों को बाजार का विकल्प और उनकी फसलों को बेहतर कीमत दिलाने के उद्देश्य से ये विधेयक लाए गए हैं।

राज्यसभा में कांग्रेस के प्रताप सिंह बाजवा ने आ’रोप लगाया कि दोनों विधेयक किसानों की आ’त्मा पर चो’ट हैं, यह गल’त तरीके से तैयार किए गए हैं तथा गल’त समय पर पेश किए गए हैं। उन्होंने कहा कि अभी हर दिन कोरो’ना वायर’स के हजारों मा’मले सामने आ रहे हैं और सीमा पर ची’न’ के साथ त’नाव है।

बाजवा ने आ’रोप लगाया कि सरकार का इरादा एमएसपी को ख’त्म करने का और कार्पोरेट जगत को बढ़ावा देने का है। उन्होंने सवाल किया कि क्या सरकार ने नए कदम उठाने के पहले किसान संगठनों से बातचीत की थी ?

उन्होंने आ’रोप लगाया कि दोनों विधेयक देश के संघीय ढां’चे के साथ भी खिल’वाड़ है। उन्होंने कहा कि जिन्हें आप फायदा देना चाहते हैं, वे इसे स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं हैं। ऐसे में नए कानू’नों की जरूरत क्या है। उन्होंने कहा कि देश के किसान अब अनप’ढ़ नहीं हैं और वह सरकार के कदम को समझते हैं।

बाजवा कृषक उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सरलीकरण) विधेयक 2020 तथा कृषक (सक्तिशकरण और संरक्षण) कीमत आश्वासन और कृषि सेवा पर करार विधेयक, 2020 पर सदन में एक साथ हुयी चर्चा की शुरूआत कर रहे थे।

बाजवा ने सवाल किया कि अगर सरकार के कदम किसानों के पक्ष में हैं तो भाजपा की सबसे पुरानी सहयोगी पार्टी अकाली दल क्यों इसका विरो’ध कर रही है ? कांग्रेस नेता ने 2015 की शांता कुमार समिति की रिपोर्ट का हवा’ला देते हुए कहा कि भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) को हो रहे घा’टे को दूर करने के लिए सरकार कदम उठा रही है। उन्होंने कहा कि सरकार के नए कदम से पंजाब, हरियाणा एवं पश्चिमी उत्तर प्रदेश के किसानों का सबसे ज्यादा नु’कसान होगा।

इसी बीच, केंद्रीय कृषि और किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने राज्यसभा में कृषक उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सरलीकरण) विधेयक 2020, कृषक (सशक्तिकरण और संरक्षण) कीमत आश्वासन और कृषि सेवा पर क’रार विधेयक 2020 प्रस्तुत किया।

उन्होंने कहा- ये दोनों बिल ऐतिहासिक हैं और किसानों के जीवन में क्रां’तिका’री बदलाव लाने वाले हैं। इस बिल के माध्यम से किसान अपनी फसल किसी भी जगह पर मन’चाही कीमत पर बे’चने के लिए आजाद होगा। इन विधेयकों से किसानों को म’हंगी फसलें उगाने का अवसर मिलेगा।